एचआईवी यानी एड्स से ग्रसित मरीजों का अब जमुई सदर अस्पताल में होगा इलाज

 

रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:- एंटी रेट्रो वायरल थेरेपी(एआरटी) केंद्र जमुई के सदर अस्पताल में जल्द ही खुलने वाली है। जिसके तहत एचआईवी यानी एड्स के मरीजों का इलाज मुफ्त किया जाएगा। अब एड्स पीड़ितों को इलाज के लिए भागलपुर की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। जिसको लेकर सोमवार को केंद्रीय टीम निरीक्षण के लिए सदर अस्पताल पहुंची। जहां सिविल सर्जन कार्यालय में अधिकारियों के साथ बैठक की साथ ही संचालित होने वाले एआरटी केंद्र के स्थल का निरीक्षण किया। टीम में बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति के अपर परियोजना निदेशक डा. अभय प्रताप, एआरटी के डा. बीएन गुप्ता एवं प्लान इंडिया की अंशु सिंह एवं अन्य लोग शामिल थे। इस दौरान टीम के सदस्यों ने सदर अस्पताल में मौजूद ब्लड बैंक, पैथोलोजी लैब, आईसीडीसी केंद्र का भी निरीक्षण किया।
———
-भागलपुर के बजाय अब जमुई में होगा एड्स पीड़ित मरीजों का इलाज

टीम के सदस्यों ने बताया कि जिले के एचआईवी से ग्रसित मरीजों को अब भागलपुर का चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बहुत जल्द ही भागलपुर की तरह जमुई के सदर अस्पताल में भी एचआईवी से ग्रसित मरीजों का इलाज करने के लिए एआरटी केंद्र खोला जाएगा। जहां एचआईवी से ग्रसित मरीजों को मुफ्त इलाज के साथ दवा भी उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए बहुत जल्द जमुई को फंड मुहैया करा दिया जाएगा। साथ ही टीम के सदस्यों ने बताया कि सूबे के सीवान, रोहतास, कैमूर, सुपौल, पूर्णिया, जमुई, बांका और मुंगेर जिले में भी नया एआरटी केंद्र खोला जाएगा। इस अवसर पर सीएस डा. श्याम मोहन दास, एसीएमओ डा. वियजेंद्र सत्यर्थी, डीएस डा. सैयद नौशाद अहमद, वरीय चिकित्सक डा. अंजनी कुमार सिन्हा, परामर्शी अखौरी मनीत कुमार, नवोदित मृणाल, नकुलदेव ठाकुर, प्रभा कुमारी, प्रणय कुमार आदि मौजूद थे।
————
– नि:शुल्क इलाज के प्रतिमाह दी जाएगी 1500 रुपया

एचआईवी कार्यालय के कर्मी अखौरी मनीत कुमार ने बताया कि एआईटी केंद्र खुलने से मरीजों को काफी सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि केंद्र में मरीजों का नि:शुल्क इलाज के साथ मुफ्त दवा भी दिया जाएगा। साथ ही केंद्र में एक चिकित्सक हमेशा तैनात रहेंगे जो मरीजों का इलाज करेंगे। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा मरीजों को प्रति माह 15 सौ रूपया भी दिया जाएगा। लेकिन इस राशि को लेने के लिए मरीजों को पहले रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा।

Comments are closed.