कचरों से पट चुकी है नालियां सफाई के दौरान खुली पोल

फोटो – सफाई के दौरान मिली प्रतिबंधित सामग्रियां।

रिपोर्ट;ब्यूरो राम विलाश, नालंदा।
राजगीर;-पर्यटक शहर में सड़कों के किनारे नाला और नालियां बनाई गई है।लेकिन प्रायः नाला और नालियां रखरखाव के अभाव कचरों से भर गई है।इतना ही नहीं कहीं नालियों पर अतिक्रमण कर लिया गया है, तो कहीं नालियों में ही मलवा डाल दी गई है।इससे नालों के पानी का निकासी नहीं हो पाता है।थोड़ी बारिश में ही नाले का पानी सड़कों पर बहने लगता है।ज्यादा बारिश होने पर सड़क ही नाला का आकार ले लेता है।

बर्षात पूर्व नगर परिषद द्वारा नालों की सफाई कराई जा रही है।\इससे इसका पोल खुल रहा है।शहर में धड़ल्ले से शराब का कारोबार हो रहा है।इसका भी पोल नालों की सफाई से खुल गया है।ऐसे सरकार द्वारा शराब पर रोक लगायी गयी है।लेकिन पर्यटक शहर राजगीर में शराब का कारोबार किया जा रहा है। इसका खुलासा नाला सफाई के दौरान निकल रहे शराब की बोतलों से हो रहा है।शहर के प्रायः सभी नाले पॉलिथीन से बजबजा रहा है।इससे नाले जाम हो रहे हैं।बावजूद स्थानीय प्रशासन द्वारा प्रतिबंधित पॉलिथीन में सामान बेचने और खरीदने पर रोक लगाने के लिए प्रयास तक नहीं किया जाता है।

पॉलिथीन से बजबजाती नालियां
इसके अलावे पानी और शराब की बोतले भी नाले में बड़ी संख्या में मिल रहे हैं।मामला राजगीर के बिहारशरीफ रोड का हो या छबिलापुर रोड का, धर्मशाला रोड का हो या ब्लॉक रोड का, गिरियक रोड सहित शहर के तमाम वार्डों व मुहल्लों के नालों का हाल यही है।शहर के कई नाले – नालियों पर दुकान व घरों की सीढ़ियाँ बना दी गई है।कई नाले – नालियों पर अतिक्रमण कर दुकानदार द्वारा व्यावसायिक इस्तेमाल में लाया जा रहा है।शहर के सैकड़ों लोग नालों को तो कूडेदान जैसा उपयोग में लाते हैं।वे घरों के कूडे कचरों को नालियों में डालना अपनी शान समझते हैं।

Comments are closed.