कर्मकांडी ब्राह्मणों की दशा दयनीय;राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ


ब्यूरो रमेश शंकर झा,समस्तीपुर बिहार।
समस्तीपुर:- राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ के द्वारा आॅनलाइन बैठक आहूत की गई। जिसमें चर्चा की गई कि देश में लगभग एक करोड़ से भी ज्यादा ब्राह्मणों का ऐसा वर्ग है जो कर्मकांड के सहारे अपना जीवन यापन करता है। ऐसे में उन्हें त्यौहार, व्रत, शादी-विवाह, मुंडन व यज्ञोपवीत के मौके पर ही कमाने का मौका मिलता है। जिसके बाद वह अपने परिवार का जीवन यापन करते हैं। किसी के आगे हाथ नहीं फैलाते विप्र ब्राह्मण। बतादें इस बार नवरात्रि में होने वाली विप्र ब्राह्मणों की कमाई कोरोना वायरस की महामारी के बाद लगने वाले लॉकडाउन के कारण नहीं हो पाई। कर्मकांडी ब्राह्मणों के ऊपर परिवार के भरण-पोषण का दबाव काफी ज्यादा बढ़ गया है। कर्मकांडी ब्राह्मणों का एक ऐसा वर्ग है जो किसी के आगे हाथ नहीं फैला सकता ना किसी से अपना दुख व्यक्त कर सकता है। लॉकडाउन की स्थिति में किसी भी प्रकार की कमाई नहीं होने की वजह से इनकी स्थिति इस समय काफी दयनीय हो रही है। ऐसे में राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ समस्तीपुर के पदाधिकारियों ने आॅनलाइन बैठक कर जिला प्रवक्ता राकेश झा ने सरकार से निवेदन किया कि जिस प्रकार से सभी वर्गों के लिए हर तरीके से मदद की जा रही है उसी प्रकार इन कर्मकांडी ब्राह्मणों को विशेष पैकेज देने की घोषणा करें।
वहीँ राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ निभा रही है अपना कर्त्तव्य।
राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ भारत देश में रहने वाले सभी भाइयों की रक्षा और सेवार्थ काम करने की सोच रखती है। ऐसे में मध्यम वर्ग के इन ब्राह्मणों के बारे में सोचना भी राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ का परम कर्त्तव्य बनता है। अत: सरकार से विनम्र निवेदन है कि जिस प्रकार से सभी वर्गों के लिए हर तरीके से मदद करने की जा रही है उसी प्रकार इन कर्मकांडी ब्राह्मणों को विशेष पैकेज देने की घोषणा करें। वहीँ बिहार प्रदेश प्रभारी अंशु झा ने कहा इस बाबत राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार सहित राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रमोद शर्मा को इस बाबत ज्ञापन देकर अवगत कराया जाएगा। मौके पर उपस्थित जिला अध्यक्ष जितेंद्र चौधरी, जिला प्रभारी यशवंत चौधरी, जिला सचिव रंजीत झा,उमेश झा श्रीवास्तव ने आॅनलाइन बैठक में विचार व्यक्त किया।

Comments are closed.