किशोर के शव मिलने से दुहैय सुहैय में मातम,हत्या की आशंका

रिपोर्ट : ब्यूरो, राम विलास, नालंदा, बिहार।
नालंदा;-जिला अंतर्गत छबीलापुर थाना पुलिस एक अपराधिक घटनाओं की गुत्थी सुलझा भी नहीं पाती है कि दूसरी बड़ी घटनाएं हो जाती है। दुहयसुहय गांव के एक कुएं से 14 वर्षीय किशोर का शव पुलिस ने गुरुवार को बरामद की है। मृतक की पहचान गांव के ही वीरेंद्र चौरसिया के पुत्र राहुल कुमार के रूप में की गई है। इस घटना के बाद इलाके में सनसनी फैल गई है।

होली के बाद इस तरह की यह दूसरी घटना होने के कारण गांव में दहशत का माहौल है। घटना की सूचना मिलते ही थाना अध्यक्ष विनोद कुमार दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच पड़ताल में जुट गए हैं। पुलिस द्वारा शव को मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराने के बाद परिवार को सुपुर्द कर दिया है। राजगीर डीएसपी सोमनाथ प्रसाद द्वारा घटनास्थल का जायजा लेने के बाद थानाध्यक्ष को कई आवश्यक निर्देश भी दिया गया। घटना स्थल पर उस समय अफरा तफरी मच गई जब शव निकालने गये दो लोग बेहोश हो गये।

पुलिस के कहने पर शव निकालने के लिए मृतक का बड़ा भाई मनीष कुमार और मामा आशीष कुमार कुएँ में गया तो वह जहरीली गैस की चपेट में आने से बेहोश हो गया। किसी तरह दोनों को कुएँ से निकाला गया। मामा-भांजा की नाजुक हालत को देख-सुनकर एक बार वहां मौजूद लोगों की सांसे रुक गयी। पुलिस अस्पताल से एम्बुलेंस भी मंगाना उचित नहीं समझी। अचेतावस्था में पथरौरा पंचायत के पूर्व मुखिया अनुज चौधरी की गाड़ी से मामा – भांजा को अनुमंलीय अस्पताल राजगीर में भर्ती कराया गया।

ग्रामीणों की मानें तो जहरीले गैस के शिकार मामा-भांजा को अस्पताल ले जाने में थोड़ी और देर होती तो अनहोनी से इनकार नहीं की जाती। इलाज बाद अस्पताल के चिकित्सकों के अनुसार दोनों खतरे से बाहर हैं। ग्रामीणों के अनुसार राहुल की हत्या कर शव को सूखे कुएँ में साक्ष मिटाने के लिए अपराधियों द्वारा फेंक दिया गया है। डीएसपी और थानाध्यक्ष ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हत्या के असली कारणों का खुलासा हो सकेगा। इस हत्या की खबर इलाके में जंगल की आग की तरह फैल गई। गांव और आसपास के लोग देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में घटनास्थल पर पहुंचे।

मृतक के पिता और भाई मनीष कुमार के अनुसार पढ़ाई छोड़ कर राहुल गांव में ही अंडा बेच कर परिवार का भरण पोषण करता था। बुधवार को वह राजगीर से 800 रुपये का अंडा एवं अन्य सामग्री खरीद कर लाया था। दुकान लगाने से पहले वह प्याज, लहसुन, अदरक काटकर तैयार किया था। खेत से मिर्चाई लाने के लिए चार बजे वह घर से निकला, जो शाम तक घर वापस नहीं लौटा। तब घर और परिवार के लोगों को चिंता होने लगी। परिवार के लोग ग्रामीणों के साथ उसे खोजने के लिए निकले। गांव के आसपास के पइन, पोखर और कुएँ सभी जगह ग्रामीणों द्वारा खोजी गई, लेकिन कहीं कुछ नहीं पता चल सका। गुरुवार की तड़के चार बजे से फिर ग्रामीण राहुल की खोज में निकले।

गांव के पश्चिम सूखे कुएं में उसकी लाश मिली। लाश मिलने की खबर से पूरे गांव में कोहराम मच गया। घटना को जानकर घटनास्थल पर देखने वालों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। इस घटना से ग्रामीण जितने मर्माहत हैं उससे अधिक आक्रोश में हैं। ग्रामीणों के विरोध के कारण ग्यारह बजे पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल बिहारशीफ भेज सकी। मृतक के पिता और ग्रामीणों के अनुसार राहुल तेज तर्रार लड़का था। उसको किसी से लड़ाई झगड़ा नहीं था। राहुल कुमार सहित गांव में तीन लोग अंडा बेचते थे। तीनों में राहुल की दुकान अधिक चलती थी। हत्या का कारण रोजगार की प्रतिस्पर्धा भी हो सकती है।

ग्रामीणों के अनुसार उसकी हत्या कहीं दूसरे स्थान पर करने के बाद देर रात कुएँ में शव को गिराकर साक्ष मिटाने की कोशिश अपराधियों द्वारा की गई है। ग्रामीणों ने बताया कि दुहैय सुहैय में होली के समय भी एक युवक की निर्मम हत्या हुई थी। उस कांड में भी पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गयी थी। ग्रामीणों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया।

सूचना देने के चार घंटे बाद घटना स्थल पर डीएसपी के पहुंचने से भी ग्रामीणों में नाराजगी देखी गई। राहुल की हत्या से गांव की महिलाओं का गुस्सा आसमान पर था। उनकी शिकायत है कि पुलिस की साठगांठ से दुहैय सुहैय गांव में बड़े पैमाने पर शराब चुलाने और बेचने का धंधा किया जाता है। शराब के कारण गांव में आये दिन विवाद होती रहती है। सूचना देने के बाद भी थाना पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं की जाती है।

Comments are closed.