कोरोना विस्फोट से राजगीर में मचा हड़कंप, दो दिन में दो की हुई मौत, दर्जन से अधिक आक्रांत

रिपोर्ट; ब्यूरो राम विलास राजगीर।
नालंदा;-वैश्विक महामारी कोरोना तेजी से पर्यटन स्थल राजगीर में पांव पसार रही है। आम से लेकर खास तक, कर्मचारी से लेकर पदाधिकारी तक और सोशल वर्कर से लेकर जनप्रतिनिधि तक कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। तीन दिनों की जांच में 16 व्यक्ति राजगीर में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें आयुध निर्माणी नालंदा, निबंधन कार्यालय और नगर पंचायत कार्यालय शामिल है। दो दिन में एक शिक्षक और एक जिला परिषद सदस्य की मौत हो चुकी है। राजगीर में कोरोना पॉजिटिव संक्रमितों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ रही है। फलस्वरुप पर्यटक शहर में कोरोना के बढ़ते प्रभाव को लेकर भारी दहशत का माहौल है। शुक्रवार को सिलाव उत्तरी के जिला पार्षद एवं गोरमा पंचायत के पूर्व मुखिया कैप्टन सुनील कुमार की मृत्यु पटना में हो गई। मृतक सुनील कुमार की कोरोना जांच के लिए 4 दिन पहले सैंपल लिया गया था। इस बीच उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गई। वह अपना इलाज के लिए पटना गए थे। लेकिन किसी अस्पताल में उन्हें भर्ती नहीं लिया गया। फलस्वरूप शुक्रवार की सुबह उनका आकस्मिक निधन हो गई। बावजूद अभी तक उनका कोरोना का रिपोर्ट नहीं आया है। इसी प्रकार इसके पहले गुरुवार को राजगीर नगर पंचायत के गंजपर निवासी एक शिक्षक की मौत कोरोना से हो गई। शिक्षक का इलाज पावापुरी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चल रहा था, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली। रिपोर्ट के मुताबिक आयुध निर्माणी नालंदा के एक पदाधिकारी की पत्नी जो बिहारशरीफ डाकघर में सेवारत हैं, उनमें कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। उसके बाद उनके घर के चार सदस्यों को जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया। आयुध निर्माणी परिसर में पीड़ित पदाधिकारी के कॉलोनी को सील कर दिया गया है। पीड़ित पदाधिकारी के घर को और आसपास के घरों को सेनीटाइज कराया गया है।

इसी प्रकार राजगीर निबंधन कार्यालय के कंप्यूटर ऑपरेटर को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद एसडीओ के आदेश पर निबंधन कार्यालय को सील कर दिया गया है। राजगीर नगर पंचायत कार्यालय में भी दो कर्मी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर हड़कंप मच गया है। लेकिन अब तक नगर पंचायत को सील नहीं किया गया है। वहां लोगों को आने जाने का सिलसिला पहले की तरह चल रही है। सोशल वर्करों ने एसडीओ से नगर पंचायत कार्यालय को सील करने की मांग की है। बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मिलने से अनुमंडल प्रशासन अलर्ट मोड में है। पर्यटक शहर राजगीर में मास्क चेकिंग हर चौक चौराहे पर की जा रही है। बिना मास्क के बाजार में निकलने वालों को 50 रुपये का जुर्माना बसुल किया जा रहा है। बावजूद यहां के लोग कोरोना को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। बेवजह बाजारों में आना जाना उनका बदस्तूर जारी है। राजगीर नगर पंचायत द्वारा वार्ड वार डोर टू डोर सेनीटाइज करने का काम आरंभ किया गया है। वार्ड नंबर 17 के वार्ड पार्षद श्रवण कुमार स्वयं डोर टू डोर जाकर अपने वार्ड के घरों को सेनीटाइज कराने का काम कर रहे हैं।

Comments are closed.