कोविड-19 के वैक्सिनेशन का कराया गया पूर्वाभ्यास

रिपोर्ट, मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:- राज्य का तीसरा जिला जमुई को कोविड-19 वैक्सिनेशन के मॉक-ड्रील के लिए चयन किया गया है। कोविड-19 टीकाकरण की तैयारी को लेकर शनिवार को मॉक-ड्रील किया गया। इसके लिए शहर के प्लस टू उच्च विद्यालय जमुई, राजकीय बुनियादी विद्यालय जमुई और ऑक्सफ़ोर्ड स्कूल जमुई को केंद्र बनाया गया। तीनो केंद्रों पर स्वास्थ्य पदाधिकारियों की निगरानी में वैक्सिनेशन का पूर्वाभ्यास किया गया।

साथ ही सभी केंद्रों पर 25-25 लाभार्थियों को डमी वैक्सीन लगाया गया। सिविल सर्जन डॉ. सत्येन्द्र सत्यार्थी ने बताया की देश भर में शनिवार को कोरोना टीकाकरण के रिहर्सल के लिए ड्राई रन चलाया गया है। बिहार में ड्राई रन के लिए 3 जिलों का चुयन किया गया था, जिसमें जमुई सहित पटना एवं बेतिया भी शामिल है। इसे एक वास्तविक टीकाकरण के रिहर्सल के रूप में संपादित किया गया। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. विमल कुमार चौधरी, डीपीएम सुधांशु नारायण लाल ने बताया कि यह ड्राई रन जिला स्तरीय टास्क फोर्स को तत्काल तैयारिओं में छूटे हुए बिन्दुओं की पहचान कराएगा।

इससे ससमय अधूरी तैयारी पूरी करने में सहूलियत होगी इससे जिले में कोविड टीकाकरण में जागरूकता का संचार भी होगा। बता दें को बुनियादी स्कूल में सिविल सर्जन डॉ. विजयेंद्र सत्यर्थी की देखरेख में ड्राई रन चल रहा था। वहीं ऑक्सफोड स्कूल में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. विमल कुमार चौधरी और प्लस टू उच्च विद्यालय में डीपीएम सुधांशु नारायण लाल की देखरेख में ड्राई रन संपन्न हुआ।इस अवसर पर जिला अनुश्रवण पदाधिकारी मुकेश कुमार, शमीम अख्तर, केयर इंडिया के संजय कुमार, स्वास्थ्य प्रबंधक उमेश पांडेय, डब्लूएचओ के शेखर सिन्हा, पंकज कुमार आदि मौजूद थे।

-इस प्रकार किया गया वैक्सीन का पूर्वाभ्यास

प्रतीक्षा कक्ष में मौजूद वैक्सिनेशन ऑफिसर 1 द्वारा लाभार्थियों का नाम बारी-बारी से निबंधन सूची से मिलानकर वैक्सिनेशन ऑफिसर 2 के पास भेजना शुरू किया गया। जहां आईडी कार्ड से मिलान कर वैक्सिनेशन ऑफिसर 3 के पास भेजा गया। उसके बाद वहां वैक्सीन होने के बाद वैक्सिनेशन ऑफ़सर 2 को सूचना दिया गया। फिर वैक्सिनेशन ऑफ़सर 4 यानि अवलोकन कक्ष भेजा गया। जहां आधा घंटा तक वैक्सिनेशन ऑफिसर के निगरानी में लाभार्थियों को रखा गया।
—-
-सीएस ने किया निरीक्षण

वैक्सिनेशन का पूर्वाभ्यास के दौरान सिविल सर्जन डॉ. विजयेंद्र सत्यार्थी द्वारा बारी-बारी से सभी केंद्रों का निरीक्षण करते हुए प्लस टू उच्च विद्यालय जमुई केंद्र पहुंचे। जहां डीपीएम सुधांशु नारायण लाल से पूर्वाभ्यास की जानकारी लेते हुए बारी बारी से सभी वैक्सिनेशन ऑफिसर के कार्यों का जायजा लिया।
—–
-दो घंटे तक चला वैक्सिनेशन का पूर्वाभ्यास

कोविड-19 को लेकर 11 बजे से शुरू हुआ मॉक ड्रील दोपहर 1 बजे समाप्त हुआ। इस दौरान हर केंद्रों पर गार्ड की भी तैनाती की गई थी जो लाभार्थियों को वैक्सिनशन से पहले निबंधन के बाद मास्क और सैनिटाइजर दे रहे थे। बता दें कि देश के सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के कुल 116 जिलों में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन यानि मॉक-ड्रील चल रहा है। इसके लिए कुल 259 वैक्सीनेशन बूथ बनाए गए हैं। दरअसल, ड्राई रन में किसी वैक्सीन का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है, बल्कि सिर्फ इसकी जांच की जा रही है कि वैक्सीनेशन के लिए बनाई गई योजना कितनी कारगर है। ड्राई रन के आंकलन के मद्देनजर मुंगेर की आयुक्त वंदना किनी, जिलाधिकारी धर्मेन्द्र कुमार एवं सिविल सर्जन सत्येन्द्र सत्यार्थी मौजूद रहे।

Comments are closed.