गबन के आरोप में रेंजर के खिलाफ थाने में प्राथमिकी

रिपोर्ट;ब्यूरो राम विलास,नालंदा [ बिहार ]
राजगीर;-राजगीर के वनों के क्षेत्र पदाधिकारी घोटालों के आरोपों से घिर गए हैं. आरोप राजगीर नगर परिषद के चक पर निवासी रामाधार सिंह द्वारा लगाया गया है. रेंजर और ठेकेदार के खिलाफ राजगीर थाने में एफ आई आर दर्ज कराई गई है. पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है. राजगीर थाना अध्यक्ष दीपक कुमार ने पुष्टि करते हुए बताया कि मामले की जांच पड़ताल की जा रही है. पुलिस द्वारा संबंधित लोगों से पूछताछ की तैयारी की जा रही है. प्राथमिकी में रेंजर और पेटी कांट्रेक्टर ऋषिकेश भारती एवं अन्य पर 40 लाख रुपए गबन करने का गंभीर आरोप लगाया गया है।

रामाधार सिंह ने आरोप लगाया है कि दो करोड 80 लाख 40 हजार 517 रुपये की लागत से रेंजर द्वारा विभागीय कार्य कराया गया है. उस कार्य का पेटी कांट्रेक्टर उन्हें, ऋषिकेश भारती और पंकज कुमार को दिया गया था. सहमति के आधार पर उनलोगों के द्वारा काम कराया गया है. राजगीर के जयप्रकाश उद्यान में दो सस्पेंशन ब्रिज, फॉरेस्ट गेस्ट हाउस में रिपेयरिंग, घोड़कटोरा में बाॅच टावर और यात्रीशेड, पुराना स्टाफ क्वार्टर्स, बिहारशरीफ वन प्रमंडल कार्यालय में चहारदीवारी का काम उनलोगो द्वारा कराया गया है. उन्होंने कहा है कि कराये गये कार्यों में उनके द्वारा 40 लाख रुपये का बिल दिया गया है।

उनका आरोप है कि उन्हें भुगतान करने के बजाय रेंजर और दूसरे पेटीकांट्रेक्टर द्वारा मिलकर राशि का गबन किया गया है. रामाधार सिंह का आरोप है कि पेटी कांट्रेक्टर ऋषिकेश भारती और उनके पिता राजेश्वर प्रसाद द्वारा उन्हें जान मारने एवं झूठा मुकदमा में फंसा देने की धमकी दी जा रही है. इस कारण वे लोग डरे -सहमे हैं. आवेदक ने आरोप लगाया है कि वन विभाग द्वारा विभागीय कार्य कराने में काफी धांधली और लूट खसोट की जा रही है।

इस संबंध में पूछे जाने पर राजगीर के वनों के क्षेत्र पदाधिकारी अमृतधारी सिंह ने कहा यह आरोप बेबुनियाद और मनगढ़ंत है. तीन-चार साल पुराना यह मामला है. निजी स्वार्थ सिद्धि को लेकर कुछ लोगों के द्वारा यह झूठा आरोप लगाया गया है।

Comments are closed.