चौथे पड़ाव पर पहुंचा मिडिल स्कूल बाजार, मंत्री ने किया उद्घाटन

फोटो – दीप प्रज्वलित कर उद्घाटन करते मंत्री एवं अन्य।

रिपोर्ट;ब्यूरो राम विलास,नालंदा।
राजगीर;- 52 साल के सफर में मिडल स्कूल बाजार राजगीर चौथे पड़ाव पर एक अप्रैल को पहुंच गया है।यह स्कूल आदर्श मिडल स्कूल कैंपस में नहीं, बल्कि अब प्रखंड कार्यालय के पुरानी बिल्डिंग में चलेगा।ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार द्वारा गुरुवार को इसका उद्घाटन किया गया।यह सुनकर आश्चर्य होगा की स्थापना के 52 साल बाद भी इस स्कूल के बच्चे जमीन पर बैठकर पढ़ाई करने के लिए मजबूर हैं।इस स्कूल के पास बच्चों को बैठाने के लिए फर्नीचर नहीं हैं।

ग्रामीण विकास मंत्री ने उद्घाटन करते हुए कहा कि इतने लंबे सफर तय करने के बाद भी इस स्कूल को अपनी भूमि और भवन नहीं है यह चिंता का विषय है। स्थानीय जनप्रतिनिधि एक से डेढ़ महीने में इस स्कूल के स्थाई भवन निर्माण के लिए स्थल चयन करने में सहयोग करें।उन्होंने कहा एक तरफ राजगीर में सरकारी जमीन की लूट हो रही है तो दूसरी तरफ इस स्कूल के अस्तित्व बचाने के लिए जमीन नहीं मिल रही है।स्कूल की जमीन के लिए उन्होंने साधन संपन्न लोगों के साथ विचार-विमर्श भी करने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने राजगीर प्रखंड कार्यालय की टूटी चहरदीवारों की मरम्मत और आकर्षक प्रवेश द्वार निर्माण कराने की घोषणा की।उन्होंने कहा कि राज्य में यदि कोई सरकारी कार्यालय किराए के भवन में चल रहा है तो उसे प्रखंड के खाली पड़े भवन में शिफ्ट करने का आदेश जारी किया गया है।मंत्री ने कहा कि राजगीर और नालंदा के लोगों को विचार में परिवर्तन लाने की जरूरत है।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में राजगीर में अतुलनीय विकास कार्य हो रहे हैं यहां का प्राकृतिक सौंदर्य कुदरत की देन है।

इसे सजाने और संवारने के लिए हर व्यक्ति को आगे आने की आवश्यकता पर उन्होंने जोर दिया।उन्होंने कहा कि राजगीर प्रखंड कार्यालय की दीवार हो या जवाहर नवोदय विद्यालय और कस्तूरबा आवासीय विद्यालय सभी की चारदीवारी पर गोयठे ठोके जा रहे हैं।स्कूल के शिक्षकों को बधाई देते हुए उन्होंने विद्यालय परिसर को मेंटेन रखने का सुझाव दिया।साफ सफाई एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर उन्होंने विशेष जोर दिया।श्रवण कुमार ने कहा कि राजगीर बदल रहा है लेकिन यहां के लोगों की मानसिकता में बदलाव नहीं हो रही।

जहां-तहां दुकानें लगाने से राजगीर की सुंदरता समाप्त हो रही है स्थानीय जनप्रतिनिधियों को वैसे लोगों से मिलकर ढंग से व्यवसाय करने के लिए प्रेरित करने की आवश्यकता पर उन्होंने जोर दिया।मंत्री ने कहा कि शहर में फासले का निर्माण आवागमन के लिए बनाया गया है लेकिन दुकानदार द्वारा दुकान की सामग्रियों को रखकर उसका अतिक्रमण किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि हर काम पुलिस के डंडे से नहीं बल्कि आपसी प्रेम से किया जा सकता है।

पूर्वी विधान पार्षद राजेश कुमार सिंह उर्फ राजू यादव ने कहा कि यहां लड़कियों की संख्या अधिक है इसलिए अनुमंडल मुख्यालय में एक गर्ल्स प्लस टू स्कूल की निहायत आवश्यकता है।बीईओ सुरेंद्र कुमार सिन्हा ने कहा कि इस स्कूल को नजदीकी के स्कूल में विलय करने का आदेश उन्हें प्राप्त हुआ था।आज खुशी हो रही है कि यह है स्कूल विलय होने की बजाय प्रखंड कार्यालय के खाली पड़े भवन में शिफ्ट हो रहा है।उन्होंने इस स्कूल की बुनियादी समस्याओं की ओर मंत्री का ध्यान आकृष्ट कराया।

स्कूल के हेड मास्टर महेंद्र कुमार सिंह ने आगत अतिथियों का स्वागत किया।शिक्षक अनिल पासवान ने कार्यक्रम का संचालन किया।इस अवसर पर जिला शिक्षा पदाधिकारी मनोज कुमार, पूर्व वार्ड पार्षद अनीता गहलौत, नगर परिषद के वरीय वार्ड पार्षद डॉक्टर अनिल कुमार, श्रवण कुमार, पूर्व वार्ड पार्षद उमराव प्रसाद निर्मल, मीरा कुमारी, उमेश प्रसाद, जामा सिंह, एहतेशाम मलिक, रमेश कुमार पान, सुरेन्द्र कुमार सिन्हा, अशोक यादव के अलावे कई स्कूलों के हेड मास्टर , शिक्षक , जनप्रतिनिधि एवं अन्य प्रमुख लोग उपस्थित थे।

Comments are closed.