जबतक जीवन है तबतक जनता सेवा करती रहूंगी : आचार्य श्री चंदना

रिपोर्ट;ब्यूरो राम विलास,नालंदा।

राजगीर;- देश की पहली महिला जैन आचार्य श्री चंदना जी की 85 वीं जन्मोत्सव गणतंत्र दिवस मंगलवार को मनाया गया।इस अवसर पर उन्हें स्वस्थ और दीर्घायु होने की कामना की गयी।नालंदा यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रो सुनैना सिंह, आरटीसी के प्राचार्य ब्रिगेडीअर के. बिरेन्द्र सिंह , जापानी मंदिर के मुख्य भिक्षु टी ओकोनोगी, सीआरपीएफ सी.ओ. अरविन्द कुमार, पूर्व मंत्री एवं जदयू मुख्य सचेतक श्रवण कुमार,अंचलाधिकारी मृत्युंजय कुमार, थानाध्यक्ष संतोष कुमार एवं अन्य ने आचार्य श्री चंदना जी महाराज को शुभकामनाएँ और बधाई दी।

इस अवसर पर आचार्य श्री चंदना जी महाराज ने शुभकामनाएँ और बधाई के लिए आभार व्यक्त करते हुए सबों के लिए मंगल कामनाएँ की. उन्होंने आशीर्वचन में कहा जबतक जीवन है तब तक मैं यहाँ की जनता के लिए कुछ करती रहूंगी. बिहार की खुशहाली का कामना करते हुए उन्होंने शिक्षित और स्वास्थ्य समाज निर्माण पर जोर दिया. वीरायतन की मुख्य संरक्षिका डॉ साध्वी सम्प्रज्ञा जी एवं साध्वी शिलापी जी ने वीरायतन की 50 वर्षों की उपलब्धियों के बारे में विस्तार से बताया. उन्होंने कहा कि एक माँ वो होती है, जो केवल अपने बच्चों को ख्याल रखती है. लेकिन दूसरी आचार्य श्री चंदना जी हैं, जो समस्त मानवजाति के लिए कल्याणकारी कार्य करतीं हैं।

प्रबंधक अंजनी कुमार ने बताया कि शिविर के अंतिम दिन 122 मरीजों को लेंस लगाया गया. इस तरह तीन दिवसीय कैंप में 473 नेत्र मरीजों का सफल मोतियाबिंद का ऑपरेशनकर लेंस लगाया गया. उन्होंने कहा कि महीने के अंतिम सप्ताह में नि:शुल्क ऑपरेशन किया जायेगा. सभी लाभार्थी को वीरायतन की ओर से उपहार भेंट किया गया।

कुलपति प्रो सुनैना सिंह ने आचार्य श्री चंदना जी महाराज को जन्मदिन की बधाई देते हुए कहा कि मानव सेवा के लिए उनकी जितनी तारीफ की जाय कम है। वीरायतन के माध्यम से समाज के लिए किये जा रहे सामाजिक कार्यों की उन्होंने सराहना की. वीरायतन द्वारा गरीबों की सेवा के साथ समाज को शिक्षित करने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नालंदा यूनिवर्सिटी नालंदा की शैक्षणिक परंपरा को पुर्नस्थापित करने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है।

इस अवसर पर वीरायतन के कर्मचारियों और सेवा भावियों को सम्मानित किया गया. जन्मोत्सव का शुभारंभ वीरायतन सप्तपर्णी में झंडोत्तोलन कर किया गया। आचार्य श्री चंदना जी, ब्रिगेडिअर के. बिरेन्द्र सिंह, सी.ओ. अरविन्द कुमार और टी ओकोनोगी ने संयुक्तरुप से झंडोत्तोलन किया. इस अवसर पर साध्वी श्री यशा जी , साध्वी श्री साधना जी, साध्वी श्री चेतनाजी, साध्वी श्री शिलापी जी, साध्वी श्री सम्प्रज्ञा जी, साध्वी श्री संघमित्रा जी, साध्वी श्री रोहिणी जी, साध्वी श्री मनश्वी जी, साध्वी श्री दिव्या जी, साध्वी श्री शाश्वत जी और पटना दादावाडी से आये श्री प्रदीप जैन के साथ सभी डॉक्टर्स, सभी कर्मचारीगण, टी.एम.वी.एम. पावापुरी एवं लाछुआर से आये शिक्षकगण, विभिन्न शहरों से आये हुए भक्तगण आदि मौजूद रहे।

Comments are closed.