थरूहट क्षेत्र के युवाओं, महिला-पुरूषों को स्वावलंबी बनाने व रोजगार मुहैया कराने का जिलाधिकारी ने दिया निर्देश

हस्तकरघा केन्द्र, तीन पहिया वाहन, जैकेट/बेंच, बैट-बल्ला, सेनेटरी नैपकीन, बेकरी उत्पादन, पेवर ब्लाॅक, गुड़ उत्पादन, पत्तल मेकिंग प्लांट का किया जायेगा अधिष्ठापन।

रिपोर्ट; शाहीन सबा ,बेतिया।
बेतिया;- जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने कहा कि सरकार एवं जिला प्रशासन जिलेवासियों के कल्याण एवं उत्थान के लिए कृतसंकल्पित है। इस हेतु विभिन्न विकासात्मक एवं कल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन जिले में किया जा रहा है। साथ ही थरूहट क्षेत्र के विकास के लिए भी युद्धस्तर पर कार्य किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आगामी वर्ष में कुल-191.71 लाख रूपये की लागत से विभिन्न योजनाओं/कार्यक्रमों का क्रियान्वयन थरूहट क्षेत्रों में किया जाना है।

उक्त योजनाओं/कार्यक्रमों के सफल क्रियान्वयन हेतु सभी संबंधित अधिकारी तत्परतापूर्वक अपने कर्तव्यों एवं दायित्वों का निवर्हन करें ताकि थरूहट क्षेत्र के लोगों का उत्थान हो सके। जिलाधिकारी कार्यालय प्रकोष्ठ में आयोजित समीक्षा बैठक में संबंधित अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।

जिलाधिकारी ने कहा कि थरूहट क्षेत्र के युवाओं, महिला-पुरूषों को स्वावलंबी बनाने व रोजगार मुहैया कराने की दिशा में व्यापक कार्ययोजना तैयार कर ली गयी है, सभी संबंधित पदाधिकारी इस दिशा में अविलंब अग्रतर कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कौशल विकास कराकर थरूहट क्षेत्र के जरूरतमंदों को आत्मनिर्भर भी बनाया जायेगा।

प्रभारी पदाधिकारी, थरूहट विकास अभिकरण, पश्चिम चम्पारण, विजय उपाध्याय द्वारा बताया गया कि जिला पदाधिकारी के निदेशानुसार थरूहट क्षेत्र के विकास एवं कल्याण हेतु विभिन्न प्रकार की योजनाओं का क्रियान्वयन हेतु प्रक्रिया की जा रही है। उन्होंने बताया कि 58.57 लाख रूपये की लागत से बगहा-02 प्रखंड अंतर्गत भड़छी पंचायत के ग्राम मिश्रौली में हस्तकरघा भवन निर्माण कार्य कराया जाना है।

साथ ही 30 लाख रूपये की लागत से थरूहट क्षेत्र के अनुसूचित जनजाति व्यक्तियों के रोजगार हेतु तीन पहिया वाहन मुहैया कराया जाना, 5 लाख रूपये से जैकेट/बेंच निर्माण अधिष्ठापन कार्य, 6 लाख रूपये से बैट बल्ला निर्माण का अधिष्ठापन कार्य, 13 लाख रूपये से सेनेटरी नैपकीन निर्माण हेतु मशीन का अधिष्ठापन कार्य, 23 लाख रूपये से बेकरी उत्पादन निर्माण हेतु शेड का अधिष्ठापन कार्य, 24 लाख रूपये से पेवर ब्लाॅक संयंत्र, 20 लाख रूपये से गुड़ उत्पादन केन्द्र तथा 12 लाख रूपये से पत्तल मेकिंग प्लांट का अधिष्ठापन कराया जाना है।

उन्होंने बताया कि थरूहट क्षेत्र के युवक-युवतियों को इलेक्ट्रिशियन एवं पलंबर कौशल से परिपूर्ण करने हेतु उन्हें व्यवसायिक प्रशिक्षण भी दिलाया जायेगा ताकि वे स्वावलंबी एवं आत्मनिर्भर बन सके।

इस अवसर पर अपर समहर्ता नंदकिशोर साह सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Comments are closed.