नववर्ष पर ग्रामीणों ने लिया नशामुक्ति का संकल्प

रिपोर्ट : ब्यूरो राम विलास नालंदा बिहार।
नालन्दा;-आम तौर पर लोग नए साल को मौज मस्ती या पिकनिक मनाने में ही जैसे तैसे बिता देते है। लेकिन हिलसा के कौशिक नगर के ग्रामीणों ने नशा समेत बुरी आदतों को त्यागने का संकल्प लेकर नव वर्ष पर अनोखी पहल की है।इस अवसर पर गुटखा छोड़ो आंदोलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. आशुतोष कुमार मानव ने कहा कि नववर्ष के अवसर पर नशाखोरी समेत सभी बुरी आदतों को त्यागने तथा अच्छे संस्कार को अपनाने का सामूहिक संकल्प लेना युवा वर्ग के लिए बड़ी उपलब्धि है।

उन्होंने कहा कि गाँव के किसान और ग्रामीण दिल से चाह लेंगे तो सबकी दिनचर्या बदल जाएगी। गाँव केवल ख़ुशहाल ही नहीं बल्कि आत्मनिर्भर भी होगा। नशे की चपेट में आकर युवा वर्ग केवल अपना नहीं बल्कि देश का नुक़सान कर रहा है। गाँव में कम उम्र के बच्चों में नशे की लत होना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। समाजसेवी सौरव कुमार ने नशे से होने वाली हानियों के बारे में विस्तार से बताया।

तम्बाकू छोड़ने की अपील करते हुए उन्होंने नए साल के मौक़े पर नया संकल्प लेने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर साहित्यकार विद्यानंद प्रसाद, रामू बिंद, जयशीष यादव, सुरेंद्र महतो, संजय प्रसाद. ब्रजेश कुमार, कारू प्रसाद, रामोतार प्रसाद, रामजीं पासवान आदि शामिल उपस्थित थे।

Comments are closed.