निगरानी विभाग के हत्थे चढ़ा खैरा का सीआई,10 हजार रिश्वत लेते रंगे हाथ हुआ गिरफ्तार

-गिरफ्तारी के बाद अंचल में मचा हडकंप

-दाखिल खारिज के लिए मांगा गया था रुपया

-खैरा बाजार से की गई गिरफ्तारी

रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)

जमुई:-बुधवार की शाम खैरा के सीआई नजीम अख्तर को 10 हजार रुपया रिश्वत लेते हुए निगरानी विभाग ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। निगरानी की टीम ने एक रणनीति के तहत उन्हें रिश्वत लेते दबोच लिया। 9 सदस्य निगरानी टीम का नेतृत्व कर रहे थे निगरानी डीएसपी एसके मौआर ने कार्रवाई के बाद परिसदन में बताया कि रायपुरा गावं के नवीन कुमार यादव नामक व्यक्ति ने दाखिल खारिज में सीआई के द्वारा 10 हजार रुपया रिश्वत मांगे जाने की शिकायत की थी। रिश्वत मांगने के मामले में जांच की गई। जांच में यह मामला सही पाया गया। उसके बाद 9 सदस्य टीम का गठन किया गया। टीम के सदस्य खैरा बाजार स्थित सीआई के निजी आवासीय कार्यालय से उन्हें रंगे हाथों दबोच लिया। बताया जाता है कि सीआई नजीम अख्तर ने नवीन को पैसे लेकर अपने आवासीय कार्यालय में बुलाया था। निगरानी डीएसपी ने बताया कि सीआई पर आगे की कार्रवाई पटना में की जाएगी। उन्होंने बताया कि धावा दल में डीएसपी राजेंद्र प्रसाद, निरीक्षक विंध्याचल प्रसाद, निरीक्षक एमके जायसवाल सहित कुल 9 लोग शामिल थे। उन्होंने यह भी बताया कि गिरफ्तार अंचल निरीक्षक को विजिलेंस की टीम पटना ले जा रही है। जहां उस पर आरोप गठन किया जाएगा तथा मामला दर्ज किया जाएगा।
——
-2 दिन से जमुई में थी विजिलेंस की टीम

अंचल निरीक्षक को रंगे हाथ गिरफ्तार करने के लिए विजिलेंस की टीम 2 दिन पहले ही पहुंच गई थी। विजिलेंस की टीम उक्त अंचल निरीक्षक की गिरफ्तारी को लेकर लगातार योजनाएं बना रही थी। एसके मौआर ने बताया कि हमें सूचना दिए जाने के बाद हम जमुई पहुंचे तथा अंचल निरीक्षक को पकड़ने के लिए लगातार दो दिनों से कोशिश कर रहे थे। अंचल निरीक्षक की गिरफ्तारी के बाद भ्रष्ट अफसरों में भय का माहौल पैदा हो गया है।

Comments are closed.