पर्यावरण नियंत्रित केंद्र से निकलता 1 टन प्रतिदिन कच्चा मशरूम;- डॉ पांडेय

रिपोर्ट ;-प्रो सुभाष चंद्र कुमार,पूसा समस्तीपुर।
समस्तीपुर,पूसा डॉ राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के संचार केंद में चल रहे आय एवं रोजगार विषय पर 21 दिनीं विंटर स्कूल सम्पन्न हुई। जिसकी अध्यक्षता करते हुए कुलपति डॉ रमेश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि मशरूम के क्षेत्र में केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा देश को दिशा देने का कार्य कर रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में किसान ही नही बल्कि व्यवसायी तैयार करने में अग्रणी भूमिका निर्वहन कर रही है। इससे पहले कुलपति ने आगत अतिथियों शाल बुके मोमेंटो देकर सम्मानित किया। सत्यनारायण मिश्र एवं सुनील पासवान ने जय जय बिहार कृषि की…. धुन से सभागार में बैठे वैज्ञानिको को मंत्रमुग्ध कर दिया। समापन सत्र में आईसीएआर नई दिल्ली के उप महानिदेशक शिक्षा डा. पीएस पांडेय ने कहा कि सभी 25 संचालित पर्यावरण नियंत्रित केंद्र से करीब 1 टन कच्चा मशरुम प्रतिदिन निकलता है। विवि के कार्यो की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि विगत दो वर्षों में विवि किसान हित मे अनेकानेक शोध कार्य कर किसानों के खेत मे उतारने का सफल अनुसंधान किया है। जिससे किसानो की आमदनी दुगुनी संभव हो पायेगा। वैज्ञानिको एवं छात्र छात्राओं को केंद्रीय विश्वविद्यालय के गरिमा को देखते हुए अनुसंधान व पठन पाठन करने की जरूरत है। जिससे देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र बाबू के नाम मे चारचांद लग जाए। सत्र को संबोधन करते हुए डॉ मंजीत सिंह ने प्रतिभागियों को कई आवश्यक टिप्स दिया। प्रशिक्षण में शामिल सभी प्रतिभागी को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। वैज्ञानिक डॉ दयाराम ने उत्पादन एवं विपणन से जुड़े दर्जनों तकनीकों का सैद्धांतिक व प्रायोगिक विधि पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए विषय वस्तु की प्रस्तुति की। मौके पर विवि के अधिष्ठाता, निदेशक एवं वैज्ञानिक मौजूद थे।

Comments are closed.