पांच हज़ार रुपया में चढ़ाया जा रहा था खून,डीएस ने खून किया जब्त

 


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)

जमुई:- झाझा के बाद अब इन दिनों जमुई में भी ब्लैक खून का धंधा जोर-शोर से फल-फूल रहा है। इसके लिए सदर अस्पताल में दलाल भी सक्रिय रहते हैं। खून का अवैध कारोबार का मामला उस वक्त उजागर हुआ जब शनिवार की शाम अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. सैयद नौशाद अहमद द्वारा अस्पताल के वार्डों का निरीक्षण किया गया। इस दौरान अस्पताल के वार्ड में एक महिला को ब्लड चढ़ाया जा रहा था जिसे उपाधीक्षक द्वारा जांच के बाद मामले का खुलासा हुआ। बीमार महिला के पिता शिवधरण कोड़ा ने बताया कि चरकापत्थर थाना के विशनपुर गांव से अपनी बेटी बेबी को ब्लड चढ़ाने सदर अस्पताल पहुंचे थे जहां एक दलाल द्वारा सदर अस्पताल में ब्लड नहीं मिलने की बात बताई गई थी और उसे उक्त दलाल ने एक यूनिट खून के एवज में पांच हजार रूपया वसूल किया। उसने बताया कि वे झाझा में एक निजी क्लिनिक में इलाज करवाये थे जहां चिकित्सक द्वारा जमुई रेफ़र कर दिया गया था। परिजन ने बताया कि शहर के महिसौड़ी में मौजूद डा. सूर्यनंदन सिंह के क्लिनीक में कार्यरत एक कांपाउटर द्वारा पांच हजार रूपया लेकर उन्हें खून उपलब्ध कराया गया था। साथ ही उक्त कांपाउटर द्वारा उन्हें स्लाईन भी लगाया गया था।
उपाधीक्षक डॉ. सैयद नौशाद अहमद ने बताया कि चरकापत्थर थाना क्षेत्र के बिसनपुर गांव निवासी शिवधरण कोड़ा की पुत्री बेबी देवी को बिना चिकित्सक से दिखाए, बिना भर्ती किये बाहर के ब्लड को चढ़ाया जा रहा था जिसे फौरन जब्त कर लिया गया और सदर अस्पताल के रक्त अधिकोष से दो यूनिट ब्लड दिया गया है। उन्होंने बताया कि महिला आठ माह के गर्भ से है। सिर्फ चार यूनिट ही उसके शरीर में ब्लड है। जिसका इलाज किया जा रहा है। जब्त ब्लड की जांच की जाएगी।फिलहाल ब्लड कहाँ से आया है उसका पता लगाया जा रहा है। छानबीन की जा रही है।

Comments are closed.