पीएम आवास के नाम पर लिया एक लाख सत्तर हजार

रिपोर्ट, मो. अंजुम आलम, जमुई (बिहार)
जमुई: पीएम आवास योजना के नाम पर ठगी करने मामले में चकाई प्रखंड के रामचंद्रडीह पंचायत के मतेडीह एवं पाटजोरी गांव के एक दर्जन से अधिक ग्रामीण शनिवार को समाहरणालय पहुंचे। जहां जिलाधिकारी को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाते हुए सख्त कार्रवाई करने की मांग की है। ग्रामीणों ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के सात लाभुकों से आवास सहायक के पति बिहारी केसरी द्वारा डरा- धमका कर एक लाख सत्तर हजार की ठगी कर लिया गया है। जिसमें रामचंद्रडीह पंचायत निवासी बहादुर यादव की पत्नी दुलारी देवी से तेईस हज़ार रुपये, बाबू लाल यादव की पत्नी कुणा देवी से पच्चीस हजार रुपये, डुगन यादव की पत्नी करमी देवी से बीस हज़ार रुपये, बबलू रजक की पत्नी रूबी देवी से पच्चीस हजार रुपये, आसिनदेव की पत्नी खुशबू देवी से तीस हजार रुपये, बच्चु रजक की पत्नी रेनू देवी से छः हज़ार रुपये, किशोर राय की पत्नी चमेली देवी से बीस हज़ार रुपये, राजू रजक की पत्नी तारा देवी से बीस हज़ार रुपया यह कह कर लिया गया कि पीएम आवास का लाभ उन्हें मिल जाएगा। यह पैसा मुखिया एवं प्रखंड से जिले तक के पदाधिकारियों को देना पड़ता है। इन महिलाओं का कहना है कि हम लोग अनपढ़ थे उतनी जानकारी नहीं थी इसलिए उसके दबाव में आकर हम लोगों ने आवास सहायक के पति बिहारी केसरी को पंचायत के मुखिया कामेश्वर दास के कहने पर भुगतान कर दिया। बाद में जब लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि पीएम आवास में कोई पैसा नहीं लगता है। समाहरणालय पहुंचे ग्रामीण दुलारी देवी, कुणा देवी, कर्मी देवी, रूबी देवी, खुशबु देवी, रेणु देवी, चमेली देवी, तारा देवी ने जिलाधिकारी से ठगे गए रुपए को वापस दिलाकर आवास सहायक के पति बिहारी केसरी एवं रामचंद्रडीह पंचायत के मुखिया कामेश्वर दास पर कार्रवाई करने की गुहार लगायी है।

Comments are closed.