बंगाल में मूर्ति विसर्जन और सरस्वती पूजा नहीं होगी तो क्या पाकिस्तान में होगी :-अमित शाह

मालदा | बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मालदा के छोटा मैदान में रैली को संबोधित करते हुए कहा है कि आने वाला चुनाव ये पश्चिम बंगाल के महत्वपूर्ण चुनाव है | यह चुनाव तय करेगा कि बंगाल में हत्या कराने वाली टीएमसी सरकार रहेगी या जाएगी? लोकतंत्र की हत्या करने वाली टीएमसी की सरकार रहेगी या जाएगी? राज्य में घुसपैठ करवाने वाली टीएमसी सरकार रहेगी या जाएगी? अमित शाह ने कहा कि बंगाल की संस्कृति को खत्म करने वाली ये टीएमसी की सरकार है | पीएम मोदी ने अंडमान निकोबार टापू का नाम सुभाष बाबू के नाम पर रखा है |
अमित शाह ने कहा कि एक बार पश्चिम बंगाल में बीजेपी की सरकार बने तो हम ये सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी घुसपैठिया बंगाल में नहीं घुस पाएगा | वोट बैंक की वजह से टीएमसी ने नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन नहीं किया है | बंगाल में मूर्ति विसर्जन, सरस्वती पूजा नहीं होगी तो क्या पाकिस्तान में होगा | एक बार बंगाल में बीजेपी की सरकार बना दीजिए गौ तस्करी बंद हो जाएगी |
बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि टीएमसी वाले मानते हैं कि हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या करके हमें रोक लोगे? लेकिन ममता दीदी कीचड़ जितना होगा कमल उतना ही खिलेगा | जो गठबंधन कर रहे है मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि यह किस चीज का गठबंधन है? गठबंधन का एक ही एजेंडा है मोदी हटाओ, हम चाहते है भ्रष्टाचार हटे वो चाहते है मोदी हटे, हम चाहते रोग बीमारी हटे, वो चाहते है मोदी हटे, ममता दीदी पांच 25 नेताओं के साथ हाथ से हाथ मिलने से मोदी नहीं हटेंगे. मोदी के साथ देश की करोड़ों जनता चट्टान की तरह खड़ी हैं |
बता दें कि उत्तरी बंगाल का सीमावर्ती जिला मालदा दशकों तक कांग्रेस का मजबूत गढ़ रहा जहां उसके कद्दावर नेता एबीए गनी खान चौधरी और उनके परिवार का दबदबा रहा है | हालांकि 2011 में सत्ता परिवर्तन के बाद तृणमूल कांग्रेस ने अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज की है | मालदा के बाद 23 जनवरी को झारग्राम और बीरभूम जिले के सुरी में अमित शाह की दो रैलियां होंगी और रैलियां रविवार से ही शुरू होनी थीं, लेकिन स्वाइन फ्लू होने के कारण भाजपा अध्यक्ष को एम्स में भर्ती होना पड़ा |

Comments are closed.