बिहार बोर्ड में दूसरा स्थान प्राप्त करने पर शिक्षाविदों ने की उज्जवल भविष्य की कामना

ब्यूरो रमेश शंकर झा समस्तीपुर बिहार।
समस्तीपुर:- बिहार बोर्ड मैट्रिक के परीक्षा में उजियारपुर प्रखंड के मालती पंचायत निवासी दुर्गेश कुमार द्वारा 480 अंक प्राप्त कर पूरे बिहार में दूसरा स्थान प्राप्त करने पर शिक्षाविदों व साहित्यकारों ने उनके निवास स्थान पर जाकर अपने आशीर्वचनो से आप्लावित एवं उज्जवल भविष्य की कामना किया। वहीँ पूर्व प्राचार्य व साहित्यकार राजकुमार राय (राजेश), अवकाशप्रात रेल कर्मचारी व साहित्यकार रामाश्रय राय “राकेश”, अवकाशप्राप्त शिक्षक जगदीश प्रसाद यादव, अवकाशप्राप्त प्राचार्य हरि नारायण राय तथा देसुआ हाई स्कूल के शिक्षक रंजीत कुमार राय आदि ने बुके, अंगवस्त्र, मोमेंटो तथा पुस्तके देकर छात्र दुर्गेश को मिथिला परम्परानुसार के अनुसार पाग-माला पहना कर सम्मानित किया। पूर्व प्राचार्य सह साहित्यकार राजकुमार राय (राजेश) ने कहा कि दुर्गेश ने अपनी प्रतिभा के बदौलत बिहार के साथ-साथ समस्तीपुर जिले को सम्मान दिलाया है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि प्रतिभा स्थान या वातावरण की मोहताज नहीं होती। इसी का परिणाम है कि ग्रामीण छात्रों का विशेष दबदबा रहा है। वहीँ ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों ने अपने परिश्रम एवं लगन की बदौलत सफलता पाई है। अपने उद्द्गार व्यक्त करते हुए साहित्यकार रामाश्रय राय (राकेश) ने कहा कि बच्चे ही हमारे देश के सुंदर व सुदृढ़ भविष्य के निर्माता है। बच्चे का भविष्य उनके आज पर निर्भर करता है। उनकी वर्तमान आदतें, संस्कार, बौद्ध‍िक क्षमता और तौर-तरीके ही उनके कल का निर्माण करते हैं। उन्होंने ऐसी कई प्रेरक घटनाएं भी सांझा कि जिन्होंने जीवन में काफी चीजों का अभाव होते हुए भी फर्श से अर्श तक का पहुंच कर अन्य लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बनते है। अवकाश प्राप्त शिक्षक जगदीश प्रसाद यादव ने कहा कि दृढ़ इच्छा शक्ति के दम पर कठिन से कठिन लक्ष्य को भी आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए कभी भी जीवन में निराश नहीं होना चाहिए। जीवन को सफलता के शिखर तक ले जाने के लिए हमेशा सकारात्मक प्रयास करते रहना चाहिए। अवकाशप्राप्त प्राचार्य हरि नारायण राय ने कहा कि प्रतिभा को निखारने का प्रयास हो तो सफलता जरूर मिलती है।

Comments are closed.