बिहार में धीरे धीरे बढ़ रहा संक्रमण का खतरा

ब्यूरो राम नरेश ठाकुर [पटना ]

बिहार ;-पटना एम्स में बीते दिनों चिकित्सा हेतु भर्ती मुंगेर के कोरोना संक्रमित जिस ब्यक्ति की मृत्यु पर बिहार में हड़कंप मचा था। उसके संपर्क में आने से एक और संक्रमित की पहचान हुई है। संक्रमित युवक प्राइवेट हॉस्पिटल का कर्मचारी है। सूत्रों की माने तो पी एम सी एच जाने के पूर्व मुंगेर निवासी उक्त ब्यक्ति का इलाज इसी नर्सिंग होम में हुआ था। रिपोर्ट पॉजिटिव पाए जाने के बाद सिविल सर्जन द्वारा पूरे अस्पताल को सील कर दिया गया है। साथ ही अस्पताल में कार्यरत सभी स्टाफ को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। गुरुवार को 85 संभावित मरीजों का नमूना जाँच में भेजा गया। जिसमे 45 का रिपोर्ट आ गया है।एक नर्सिंग कर्मचारी के अलावा वाकी 44 संदिग्ध का रिपोर्ट निगेटिव है। इसके साथ ही कुल मिलाकर बिहार में मरीजों की संख्या 7 हो गई है। 1230 लोगो को संक्रमण की आशंका के मद्दे नजर अलग अलग आइसोलेशन में रखा गया है।लॉक डाउन की इस्थिति आज पांचवें दिन शुक्रवार प्रसासनिक मुस्तैदी से सामान्य दिख रही है। राष्ट्रीय राज मार्ग से लेकर ग्रामीण सड़कों पर सन्नाटा पसरा है।

 

तीसरे चौथे दिन प्रसासन के सख्ती के वाद बेवजह मटर गस्ती करने वालों में भय का माहौल दिख रहा है।लॉक डाउन को लेकर देश के बिभिन्न शहरों में फसे गरीब मजदूरों की कठिनाई को देखते हुए मुख्य मंत्री नीतीश कुमार द्वारा उनके भोजन एवं आवासीय सुविधा उपलब्ध कराने हेतु मुख्य मंत्री कोष से सौ करोड़ रुपया जारी करने का आदेश दिया गया है। लॉक डाउन को लेकर अगर ग्रामीण इलाकों की बात करें तो ग्रामीण हाट बाजार में भी लोग दुरी बनाकर दुकान लगाते दिख रहेहैं। इसी बीच जहाँ जगह जगह से कालाबाजारी एवं ज्यादा दाम पर सामान बेचने की सुचना मिल रही है। जिस पर प्रसासन की पैनी नजर भी देखी जा रही है। सभी जिलों में जिलाधिकारी द्वारा लगातार ब्यापारियों एवं जन प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर इस्थिति को सामान्य रखने का मुस्तैदी के साथ लगातार प्रयास जारी है। बिहार सरकार किसी भी इस्थिति से निपटने को तैयार है।जनता की किसी भी तरह की कठिनाई की सूचना पर तुरत करवाई होती दिख रही है। इस कठिन परिस्थिति में जनता का कर्तब्य बनता है की लॉक डाउन के गंभीरता को समझ कर खुद को एवं देश को इस त्रासदी में झोकने से बचाने हेतु आसपास के लोगों को कराई पूर्वक इस नियम को पालन करने की नसीहत दें। एक एक आदमी का प्रयास इस कठिन समय में अपनों एवं अपने देश के लिए अपेक्षित है।

Comments are closed.