बिहार में बढ़ रहा संक्रमण का आंकड़ा

रिपोर्ट; राम नरेश ठाकुर, ब्यूरो बिहार। 
पटनाः-बिहार में कोरोना संक्रमण की समस्या आम आवाम के साथ प्रशासन के लिए भी कड़ी चुनौती बनती जा रही है। बुध वार को दो और पॉजिटव मरीज मिलने के बाद संक्रमित मरीजों की कुल संख्या राज्य में 24 हो गयी है।इसमे एक गया एवं एक नालंदा का निवासी बताया जा रहा है। जो हाल ही में अबुधाबी एवं दुबई से लौटा था। राज्य के लिए सबसे बड़ा खतरा लौक डाउन के बावजूद बाहरी राज्यों से लगातार आ रहे लोगो को लेकर है जो थमने का नाम नहीं ले रहा। लॉक डाउन के बाबजूद सबसे ज्यादा जुगाड़ गाड़ी से मजदूर अभी भी लगातार लौटते नजर आ रहे है।

जिससे संक्रमण बढने की अंदेशा से इनकार नहीं किया जा सकता। बिहार में प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से आये जमात को लेकर है। ऐसे लोगों को ढूँढ निकालने के लिए पुलिस लगातार छापामारी कर रही है। सभी थानेदारों को जिम्मेदारी दी गई है की दिल्ली से लौटे स्थानिये एवं विदेशी जो लोग मस्जिदों में छुपे हैं उन्हें खोज कर अविलम्ब चिन्हित कर निकाला जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में इस कार्य के लिए चौकिदारों से रिपोर्ट तलब किया गया है। इस क्रम में मुजफ्फरपुर से 18लोगों को पुलिस द्वारा खोज निकाला गया है। ये सभी काजी मोहम्मद पुर, मिठनपुरा, एवम् सकरा के बताये जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक समस्तीपुर के 49लोग मरकज़ में सामिल होने गये थे। जिसमें पुलिस द्वारा एक घर में छुपे 15लोगों को निकाला गया है .जिसमे नौ बांग्लादेशी बताया जा रहा है ।वहीं समस्तीपुर के विभिन्न जगहों से पुलिस ने जमात के लिए आये 31 मौलाना को पकड़ा। इनमें उन्नीस विदेश के बताए जा रहे हैं। सभी को जांच के बाद आइसेलेशन सेंटर में रखा गया है । बाकी सभी को चिन्हित कर स्पताल भेजा जा चुका है।अभी तक किसी में संक्रमण का लक्षण नहीं दिखा है। दरभंगा से जमात में गये 10 लोगों को लौटने के बाद, मधुवनी मैडिकल कालेज भेजा गया है।राज्य के सभी जिलों में जिलाधिकारी द्वारा प्रखंड से ग्रामीण क्षेत्रों तक संक्रमण से निपटने हेतु विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हर इस्थिति पर नजर रखी जारही है।

Comments are closed.