भ्रष्टाचारियों व अपराधियों को मुख्यमंत्री का प्राप्त है संरक्षण;चिराग


रिपोर्ट; ब्यूरो मो. अंजुम आलम, जमुई (बिहार)
जमुई;-शुक्रवार को जमुई पहुंचे सांसद सह लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान ने मीडिया कर्मी से मुखातिब होते हुए एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की  नीतियों को लेकर जमकर हमला बोला।उन्होंने रिश्तेदारों को योजनाओं का लाभ देने के मामले में अप्रत्यक्ष रूप से डीप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद को भी आड़े हाथों लिया। इसके अलावा बिहार सरकार के कई मंत्रियों पर भी निशाना साधा।उन्होंने कहा कि आशीर्वाद यात्रा के दौरान ही मैंने सीएम मुख्यमंत्री की नीतियों का विरोध किया है।सात निश्चय को लेकर हमेशा मैनें सवाल उठाए हैं।

आने वाले समय में बिहार के इतिहास में सात निश्चय योजना भ्रष्ट्राचार की सबसे बड़ी योजना होगी।अब धीरे-धीरे इसके खुलासे भी होने लगे हैं। सरकार व उनके के मंत्रियों के ऊपर एक के बाद एक आरोप लग रहे हैं। बिहार के मंत्री अपने घर व परिवार के सदस्यों को योजना का लाभ दिलाने में लगे हुए हैं। सत्ताधारी पार्टी जदयू के मंत्री भी कई योजनाओं का बंदरबांट रिश्तेदारों व परिवारों के बीच किया है। इसके बावजूद सीएम कहते हैं कि भ्रष्ट्राचार को लेकर जीरो टालरेंस पर सरकार कार्य करती है।

लेकिन जब अपने नेता की बारी आती है तो उनकी यह जीरो टालरेंस की नीति खत्म हो जाती है।उनपर कोई कार्रवाई नहीं होती है।उन नेताओं पर कभी भी जांच नहीं कराया जाता है। इससे लगता है कि इसमें भ्रष्टाचारियों व अपराधियों को कहीं न कहीं मुख्यमंत्री का संरक्षण प्राप्त है।एक बार भी मुख्यमंत्री मामले की जांच करवाना मुनासिब नहीं समझते हैं।

संसद ने सीएम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि विधानसभा चुनाव में मेरी पार्टी महज 143 सीटों पर चुनाव लड़ी थी।अगर 243 पर लड़ती तो लोजपा का मत प्रतिशत 13 से 14 प्रतिशत होता।आज 15 प्रतिशत मत लाने वाली पार्टी के मुखिया बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं। इसके अलावा संसद ने बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट पर भी कई बातें रखी।आशीर्वाद यात्रा की भी विस्तारपूर्वक चर्चा किया।साथ ही पार्टी की मजबूती पर भी जोर दिया।

 

Comments are closed.