मनरेगा से कोरोना काल में मिला साढ़े तीन हजार को रोजगार

रपोर्ट;ब्यूरो;राम विलास,नालंदा।
राजगीर;-कोरोना काल में राजगीर प्रखंड में एक लाख 63 हजार 97 मानव दिवस का सृजन किया गया है।इसमें केवल महिलाओं के लिए के लिए 89,353 महिला दिवस का सृजन किया गया है।इसी प्रकार पुरुषों के लिए 73,744 मानव दिवस का सृजन किया गया है।इस अवधि में इस योजना से तीन हजार पांच सौ ग्रामीण बेरोजगारों को रोजगार दिया गया है।इनमें दो हजार 64 महिलाओं और 1,436 पुरुषों को रोजगार का अवसर दिया गया है।प्रखण्ड के मनरेगा पीओ राकेश रंजन ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि कोरोना काल में प्रखंड अंतर्गत हसनपुर के सूर्य तालाब में छठ घाट का निर्माण मनरेगा से कराया गया है।इस छठ घाट के निर्माण पर 10 लाख रुपये व्यय किए गए हैं।इसी प्रकार बिहार पुलिस अकादमी के तालाब के किनारे पाथवे का निर्माण कराया गया है।इस पाथवे के निर्माण पर 30 लाख रुपये व्यय किए गए हैं।उन्होंने बताया कि राजगीर प्रखंड में एक एकड़ एराजी के 15 तालाब हैं. सभी तालाबों की उड़ाही के लिए सर्वे कराया जा रहा है।सर्वे उपरांत उसकी उड़ाही कराई जाएगी।

इनमें दो तालाब राजगीर नगर परिषद क्षेत्र में हैं।इसी प्रकार प्रखण्ड में 5 एकड़ या उससे अधिक एराजी के छह तालाबों को चिन्हित किया गया है। उन सभी बड़े तालाबों की उड़ाही लघु सिंचाई विभाग से कराई जाएगी।मनरेगा पीओ ने बताया कि कोरोना काल में प्रखंड के 55 पइनों की उड़ाही करायी गयी है।प्रखण्ड में 21 नये निजी तालाबों का निर्माण कराया गया है।एक तालाब के निर्माण पर डेढ़ लाख रुपये व्यय करने का सरकारी प्रावधान है।इनमें केवल भुई पंचायत में 16 तालाब हैं।

ऐसे तालाबों में ग्रामीण किसान मछली पालन करते हैं।प्रखंड के भुई पंचायत सरकार भवन में दो रेन वाटर हार्वेस्टिंग बनाया गया है। राकेश रंजन ने बताया कि प्रखंड के पिलखी पंचायत के अलावे नाहुब, नईपोखर और मेयार पंचायत के जिन गांव तथा टोलों को राजगीर नगर परिषद में शामिल किया गया है।वहां मनरेगा से नए कार्यों पर रोक लगा दी गई है।केवल पुराने कार्यों को समय से निष्पादन करने का कार्य किया जा रहा है।

Comments are closed.