महादलित बस्ती के लोगो के लिए भगवान बनकर आये थे डीएम साहब

रोहतास:– जिले के नासरीगंज नगर पंचायत के वार्ड 08 के अर्धसप्ताहि बाजार के पास झुग्गी-झोपड़ियों में निवास कर रहे महादलित परिवारों के लिए बुधवार को डीएम पंकज दीक्षित भगवान बनकर आये। उन्होंने महादलित परिवारों से मिल उनकी समस्या व हाल लिया। जिसके बाद उन्होंने नगर पंचायत के नगर प्रबंधक को आदेश दिया कि जल्द से जल्द इस टोले में पानी पीने के लिए चापाकल, मोबाइल शौचालय व सभी के लिए आवास का इंतजाम करे। बुधवार की देर शाम से ही अंचल‌ के कर्मचारियों ने इन्हें आवासीय भूमि आवंटित करने के लिए बस्ती में पहुंच कर जमीन की पैमाइश कर लेखा-जोखा तैयार करना शुरू कर दिया। वहीं गुरुवार की सुबह नगर पंचायत की ओर से आनन-फानन में महादलित बस्ती में चापाकल‌ लगाने का काम शुरू करवाया गया और इस बस्ती में रहने वालों को लगा कि इनके लिए सचमुच डीएम भगवान बन कर आए थे।

गौरतलब है कि इस महादलित टोले में दो दर्जन से ज्यादा परिवारों में महिला, पुरुष, बच्चे, बूढ़े समेत लगभग डेढ़ सौ लोग कच्ची दिवार और फूस की छप्पर वाली झोंपडियों में रह कर बदहाल जीवन जी रहे हैं। यहां के अधिकांश परिवार का मुखिया नगर पंचायत नासरीगंज में दैनिक वेतन भोगी सफाई कर्मी है। इसके बावजूद इस बस्ती में न तो पेयजल की व्यवस्था है और ना ही शौचालय की। लेकिन जैसे ही सरकारी अमला सक्रिय हुआ और चापाकल लगने लगा तो इन्हें इनकी आशाएं विश्वास में बदलती प्रतीत होने लगीं। उक्त टोले के निवासी हरिहर, धर्मवीर, बजारी, दिलीप, साधु, अशोक, बहादुर, लाल बाबू, बबन, सुनिल, राजेंद्र व रीता देवी आदि की आंखें डीएम के आदेश के बाद चापाकल लगते देख और घर मिलने की उम्मीद पर प्रतिक्रिया देते हुए छलक आईं। लोगों ने बताया कि वे और इनके पूर्वज पच्चास वर्षों से यहां पर रह रहे हैं। इस बीच मदद की गुहार लगाने के बावजूद आज तक किसी अधिकारी या नेता ने इनकी सुध नहीं ली। लेकिन अब इन्हें लगता है कि इनके बच्चों का भविष्य बेहतर हो जाएगा। लोग अपने अंदाज में बड़े साहब को‌ दुआएं भी दे रहे हैं।

Comments are closed.