मालगोदाम श्रमिक संघ अब याचना नहीं रन के मुड में

राम विलास की रिपोर्ट
राजगीर: माल गोदाम श्रमिकों को स्थायीकरण की मांग पूरी होने तक पूरे देश में चरणबद्ध तीखा आंदोलन चलाया जायेगा। केंद्र के नए सरकार के गठन के 90 दिनों बाद भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ अपनी मांगों को लेकर हुंकार भरेगा। यह ऐलान भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ के राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर के दूसरे दिन खुला अधिवेशन में राष्ट्रीय महामंत्री अरुण कुमार पासवान ने राजगीर के आरआईसीसी में मंगलवार को किया। उन्होंने कहा कि संघ द्वारा गांधीवादी नीतियों से नहीं, बल्कि अब सुभाष चंद्र बोस के नीतियों पर चलकर आंदोलन को तेज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आसन्न लोकसभा चुनाव में जो दल रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ की मांगों को पूरा करेगा या समर्थन करेगा। उसी दल को श्रमिक संघ वोट करेगा। इस राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में देश के सभी राज्यों, सभी रेलवे जोन, सभी रेलवे डिविजन और मालगोदाम के श्रमिक तथा पदाधिकारी बड़ी संख्या में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि देश में 10 लाख से अधिक रेलवे माल गोदाम श्रमिक हैं। उनके स्थायीकरण के लिए संघ 1998 से लगातार आंदोलन के जरिए संघर्ष चला रहा है। लेकिन अब तक के अपेक्षित सफलता नहीं मिली है। राष्ट्रीय महामंत्री ने कहा कि एफसीआई, कोयला खदान, पानी पांडे, पार्सल, पोर्टल, गैंगमैन की तरह रेलवे माल गोदाम श्रमिकों को भी सरकार स्थाई नियुक्ति करें। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा और राजेंद्र गुहाई एवं अन्य केंद्रीय मंत्रियों के आश्वासन के बाद भी माल गोदाम श्रमिकों को स्थाई नहीं किया गया है। अरुण कुमार पासवान ने सरकार से सवाल किया कि जिस जमीन पर रेल चलती है। वह रेल का है। जहां माल गोदाम है। वह रेल का है। रेल चालक से सुरक्षा में लगे जवान सभी सरकार के हैं, तो माल गोदाम के श्रमिक किसके हैं। उन्होंने कहा अब याचना नहीं रन होगा। तीखा आंदोलन संघ तब तक करेगा जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होती है। हम आंदोलन कर सरकार को मजबूर कर देंगे। इस अवसर पर संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील कुमार ने संगठन के महत्व, उद्देश्य और मजबूती पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हम मजबूती से अपनी मांगों को सरकार सरकार से मनवायेगे। यदि हमारी मांगे नहीं मानी जाएगी तो हम सरकार का चक्का जाम कर देंगे। अरुण कुमार पासवान ने कहा चुनाव सामने है। चुनाव लड़ने वाले लोग सत्ता और विपक्षी दल के नेता वोट मांगने के लिए माल गोदाम श्रमिकों के पास आएंगे। लेकिन हम किसी के झासे में नहीं फसेगे। हमारा संघ उसी दल को समर्थन करेगा जो सरकार बनाने के बाद हमारी मांगों को पूरा करेगा या हमारी मांगों को लेकर सड़क से संसद तक आवाज उठाएगा। राष्ट्रीय महामंत्री ने कहा कि अब हम चुप बैठने वाले नहीं हैं। जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होगी तब तक हम केंद्र सरकार के नाक में नकेल करते रहेगे। इस अवसर पर संघ के राष्ट्रीय प्रभारी मनोरंजन कुमार, उपाध्यक्ष राणा सिंह चौहान, अरुण कुमार यादव, वरिष्ठ नेता विनोद पासवान, दयानंद प्रसाद गुप्ता, अशोक यादव, अभिषेक वर्मा , वीरेंद्र यादव, पशुपतिनाथ, ज्वालामुखी, शंकर पासवान, लाल पंडित सहित अनेकों लोगों ने मंच साझा किया।

Comments are closed.