मुंबई-अहमदाबाद हाइवे के विरार फाटा हाइवे पर आगरी सेना का रास्ता रोको आंदोलन


आर.पी.मौर्या
मुंबई | मुंबई-अहमदाबाद हाइवे के विरार फाटा स्थित केटी रिजॉर्ट के पास शुक्रवार की दोपहर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आगरी सेना ने रास्ता रोको आंदोलन किया है | लगभग 5 हजार की संख्या में आए आगरी सेना के लोगों ने राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और बाद में हाइवे के दोनों तरफ वाहनों की आने-जाने पर रोक लगा दी गई है | इस दौरान 15 मिनट तक यातायात ठप्प रहा और काफी लंबा जाम लगने से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा। लगभग दो सौ पुलिसकर्मी और 50 से अधिक अधिकारी तैनात थे। साथ में आरसीपी की तीन टीम मौके पर मौजूद थी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, शुक्रवार की सुबह 11 बजे आगरी सेना के नेता कैलाश पाटील और पालघर जिला अध्यक्ष जनार्दन पाटील (मामा) के नेतृत्व में आगरी सेना के लगभग पांच हजार कार्यकर्ता हाइवे के केटी रिजॉर्ट के सामने मैदान में जमा हुए। कैलाश पाटील ने विभिन्न मांगों को लेकर अपनी बातें रखीं। बाद में लगभग पांच हजार की संख्या में इकट्ठा हुए आगरी सैनिकों ने हाइवे के दोनों तरफ वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी। रास्ता रोको आंदोलन कर रही आगरी सेना ने वसई के तुंगारेश्वर पहाड़ के दोनों तरफ रास्ते बनाने, नौकरी में आरक्षण देने, हाउस टैक्स में कमी करने, शहर में हो रहे अवैध बांधकामों पर रोक लगाने, वसई-विरार में सीएनजी गैस की सुविधा देने, पानी की समस्या दूर करने, मछली मार व्यवसाय पर ध्यान देने, बिजली बिल में कमी करने, शिरसाट फाटा, चांदीप और भाताने गांव में पुलिस चौकी बनाने, वेटलैंड जोन पर बनी इमारतों पर कार्रवाई करने, विरार के नारंगी गांव के पास उड़ान पुल बनाने, रेती, खडी, मिट्टी व पत्थरों पर लगी रोक हटाने की मांग की है। कैलाश पाटील ने कहा कि राज्य सरकार अगर जल्दी ही हमारी मांगें नहीं मानेगी, तो आगे भी इस तरह के आंदोलन किए जाएंगे। इस दौरान पालघर एसपी गौरव सिंह ने पहले से ही कड़ा बंदोबस्त कर रखा था।

Comments are closed.