यात्री सेवा समिति के पांच सदस्यीय टीम ने गोरौल रेलवे स्टेशन का किया निरीक्षण

रिपोर्ट;अमरेश कुमार,बैशाली [ बिहार ]
गोरौल;- रेलवे की यात्री सेवा समिति के पांच सदस्यीय टीम मंगलवार को गोरौल रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया।निरीक्षण के दौरान टीम के सदस्यों ने कहा कि कोविड 19 की वजह से ट्रेने रद्द है वह दिसम्बर से पुनः चालू कर दी जायेगी। कोविड से पहले से जो भी सुविधाये रेल यात्रियों को दी जा रही थी उसे जल्द बहाल किया जायेग। बोर्ड के सदस्यों ने 2 घण्टे तक स्टेशन का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान साफ सफाई ,शौचालय,प्लेटफार्म पर यात्री शेड बढ़ाने और फुट ओवरब्रिज को स्टेशन से पूर्ब बाजार की ओर तक बढ़ाने का निर्देश दिया।

टीम के सदस्यों में बेबी चंकी,गुरविन्दर सिंह सेठी,गंगाधर तुलपुला,किशोर शनभाग और किशोर भटटी शामिल थे।गोरौल रेल यात्री समिति के सदस्यों ने सिवान-समस्तीपुर इंटरसिटी को जल्द चालू करने की मांग किया।इतना ही नही ग्वालियर एक्सप्रेस सहित कई अन्य ट्रेनो की ठहराव की मांग किया।बेनीपट्टी पिरापुर हाल्ट पर फुटओवरब्रिज बनाने की मांग भी किया गया।रेलवे यात्री संघ के नेताओ में प्रमोद कुमार झा,रामजी प्रसाद,केदार प्रसाद सहित अन्य ने उक्त मांगों का मांग पत्र सौपा।

इसपर रेलवे बोर्ड यात्री सेवा समिति के सदस्य गुरुविंदर सिंह ने पत्रकारों से बात करते हुये बताया कि कोविड 19 के कारण यात्री जिस सुविधाएं से बंचित हो गये थे उसे जल्द पटरी पर लाया जायेगा।सम्भव है इसी वर्ष दिसम्बर से यात्रियों को सभी सुविधा मिलने लगेगी। बन्द सभी ट्रेने चालू कर दिया जायेगा।प्लेटफार्म की लंबाई को और यात्री शेड,शौचालय और दोनो प्लेटफार्म पर पिने के पानी का और बढ़ने का निर्देश दिया। सदस्य बेबी चंकी और श्री सेठी ने प्लेटफार्म के पुरुष तथा महिला शौचालय के साफ सफाई को देखा और निर्देश दिया कि प्रत्येक दो – दो घण्टो पर सफाई करायी जाये।

महिला शौचालय एक कि जगह दो का होना जरूरी बताया और जल्द इसका निर्माण कराने का निर्देश दिया। स्टेशन अधीक्षक मनोज कुमार सिंह से एक एक कर यात्री सविधाओं के सम्बन्ध में जानकारी ली। रेलवे कर्मचारियों के साथ भी करीब 20 मिनट तक सदस्यों ने बैठक किया। टीम जैसे ही गोरौल स्टेशन पर पहुचा वैसे ही स्थानीय लोग और रेलवे कर्मियों ने सदस्यों को फूलमाला पहनाकर जोरदार स्वागत किया। स्वागत करने बालो मे व्यवसायिक संतोष सिंह चौहान,अरविंद कुमार सिंह शामिल थे।

Comments are closed.