राजगीर में 20 अक्टूबर को डाले जायेंगे वोट

सभी पंचायतों में मुकाबला हुआ दिलचस्प

कहीं सीधा तो कहीं तीन कोणीय संघर्ष के आसार

रिपोर्ट;ब्यूरो राम विलास,नालंदा [ बिहार ]
राजगीर;-बुधवार को राजगीर प्रखंड में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव होना निश्चित है।प्रखंड के आठ पंचायतों भूई, बरनौसा, लोदीपुर, गोरौर, मेयार, पथरौरा, नाहुब और नई पोखर में होने वाले पंचायत चुनाव में जीत के लिए सभी पद के प्रत्याशियों ने पूरी ताकत झोंक दी है।विधानसभा में किस्मत आजमा चुके प्रतिनिधि भी पंचायत चुनाव में जोर आजमाइश कर रहे हैं।इसके अलावा कई धन कुबेर और सरकारी कर्मी भी अपने परिवार को चुनाव मैदान में उतार कर चुनाव को दिलचस्प बना रहे हैं।

प्रखंड के सभी पंचायतों में चुनाव काफी दिलचस्प बन गया है।प्रखंड के पंचायतों में कई ऐसे उम्मीदवार भी हैं, जो हैट्रिक लगा चुके हैं।आगे चुनावी जंग जीतने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं।दूसरी तरफ पिछली बार बहुत कम मतों के अंतर से चुनाव हारने वाले प्रत्याशी भी पूरे दमखम से चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं।कुछ दागी तथा घपले घोटाले के आरोपी और जेल यात्रा कर चुके निवर्तमान मुखिया अपनी पत्नी को चुनाव मैदान में उतार कर गांव की सरकार पर कब्जा करने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

इस बार कुछ ऐसे भी प्रत्याशी हैं, जो दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष की सहानुभूति प्राप्त करने का दावा कर रहे हैं।वहीं कुछ मंत्री और विधायक का आशीर्वाद लेकर चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे हैं।प्रत्याशी खुद, उनके परिजन अपने समर्थकों के साथ गांव-गांव और घर-घर जाकर मतदाताओं से आशीर्वाद मांग रहे हैं।बावजूद मतदाता मौन हैं।वह सभी प्रत्याशियों को सुन रहे हैं।उनके बारे में जानकारी हासिल कर रहे हैं।उनका निर्णय अभी गुप्त बना हुआ है, जिसके कारण अपवाद छोड़कर सर्वत्र संशय की स्थिति है।

जानकार बताते हैं कि प्रत्याशी उम्मीदवारों को पटाने और रिझाने के लिए हर तरह के हथकंडे अपना रहे हैं।लेकिन एक ही जाति और समाज से कई प्रत्याशियों के चुनाव मैदान में रहने के कारण वैसे प्रत्याशियों की मुश्किलें आसान नहीं लग रही है।इस बार नगर परिषद क्षेत्र के दो गांव के निवासी भी पंचायत के गांव की मतदाता सूची में अपना नाम जुड़वा कर चुनाव मैदान में डटी हैं।किनके सिर होगा ताज और किनकी होगी गांव सरकार पर कब्जा. इसका फैसला तो मतदान और मतगणना के बाद ही तय होगा।

Comments are closed.