रामविलास पासवान ने फिर से बहाल कराया था राजगीर का स्वतंत्र एसटीडी कोड – 06119

रिपोर्ट : ब्यूरो राम विलास, नालंदा, बिहार।
नालंदा ;-अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन केंद्र राजगीर के स्वतंत्र एसटीडी कोड – 06119 को पटना सर्किल द्वारा साजिश के तहत समाप्त कर दिया गया था। एसटीडी कोड भंग करने के बाद राजगीर को बिहारशरीफ के एसटीडी कोड – 06112 से जोड़ दिया गया था।संचार विभाग की इस हरकत से देश – दुनिया के संचार नक्शे से अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल राजगीर अचानक गायब हो गया था।पर्यटन व्यवसाय और होटल बुकिंग मामले में इसका प्रतिकूल असर पड़ने लगा।

बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन नालंदा जिला इकाई अध्यक्ष राम विलास की पहल और तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस एवं जल-भूतल एवं परिवहन मंत्री नीतीश कुमार की सिफारिश पर संचार मंत्री रामविलास पासवान द्वारा राजगीर के अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन महत्व को देखते हुए पुनः राजगीर का एसटीडी कोड – 06119 चालू किया गया था।एसटीडी कोड चालू होते ही फिर से देश- दुनिया के संचार नक्शे से राजगीर जुड़ गया था।

इससे पर्यटन उद्योग से जुड़े व्यवसायियों में काफी खुशी थी।इतना ही नहीं उस समय राजगीर में दो-दो एसटीडी कोड काम करने लगा था।एक राजगीर का अपना स्वतंत्र एसटीडी कोड – 0 611 9 और दूसरा बिहारशरीफ का एसटीडी कोड- 06112 काम करता था।दोनों एसटीडी कोड डायल कर राजगीर से बाहर टेलीफोन किया जाता था।अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन केंद्र राजगीर देश की शायद पहली जगह बन गयी थी, जहां दो-दो एसटीडी कोड काम करते थे।उसका श्रेय तत्कालीन संचार मंत्री रामविलास पासवान जी को जाता है।लेकिन उनके संचार मंत्री से हटते ही फिर राजगीर का एसटीडी कोड समाप्त कर दिया गया है।

एसटीडी कोड समाप्त होते ही देश-दुनिया के संचार नक्शे से राजगीर फिर बाहर हो गया। वर्तमान संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद का भी ध्यान इस ओर आकृष्ट कराया गया है।लेकिन परिणाम शून्य से अधिक नहीं निकल सका है।फलस्वरूप राजगीर देश दुनिया के संचार नक्शे से अब भी बाहर है, जो पर्यटन के दृष्टिकोण से कदापि उचित नहीं है।संचार मंत्री रामविलास पासवान के कोटे से बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के नालंदा जिला इकाई कार्यालय गौरक्षणी में टेलीफोन लगाया गया था, जिसका नंबर 20964 था।

Leave a Comment