रालोसपा के बिहार बंद को मिला महागठबंधन का सहयोग, सड़क पर उतरे कार्यकर्ता

अंजुम आलम की रिपोर्ट
जमुई: रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा द्वारा शिक्षा सुधार,जन-जन का अधिकार आक्रोश मार्च के दौरान पटना में प्रशाशन द्वारा लाठी चार्ज करने के विरोध में सोमवार को रालोसपा के बिहार बंद का असर जमुई में भी देखने को मिला। जहाँ कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतर कर शहर स्थित कचहरी चौक को जाम कर दिया। वहीं रालोसपा के समर्थन में महागठबंधन के दल भी मैदान में छलांग लगा दिए और पूरी समर्थन के साथ बिहार बन्द को सफल बनाने में लगे रहे। सड़क जाम कर रहे कार्यकर्ताओं ने राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की और रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर लाठी चार्ज करने को लेकर प्रशासन पर कार्रवाई की मांग भी कर रहे थे। कार्रवाई नहीं होने पर मुख्यमंत्री को गद्दी छोड़ो के नारे भी लगा रहे थे। सड़क जाम के दौरान दोनो ओर से सैकड़ो बडी छोटी वाहनों की लंबी कतार लग गयी। आने जाने वाले लोगो को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।बताते चले कि रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा द्वारा शिक्षा में सुधार जैसे 25 सूत्री मांगों के समर्थन में पटना में पैदल मार्च निकाला गया था। इस दौरान डाकबंगला चौराहे के समीप पुलिस ने लाठी चार्ज कर दी जिसमें पूर्व केन्द्रीय मंत्री सह रालोसपा के राष्टीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा गंभीर रूप से घायल हो गये। उनका इलाज पटना के निजी अस्पताल में करवाया जा रहा है। वहीं बिहार बंद के दौरान रालोसपा के जिलाध्यक्ष अरूण कुमार मंडल ने कहा कि हमारे नेता उपेन्द्र कुशवाहा पर लाठी चार्ज करवाकर सूबे के मुखिया नीतीश कुमार ने अपनी नीची सोच का प्रर्दशन किया है। उन्होने कहा कि नीतीश कुमार का शासनकाल अब तानाशाहों का शासन हो चला है। वहीं राजद जिलाध्यक्ष अशोक राम ने कहा कि एक साजिश के तहत उपेन्द्र कुशवाहा पर लाठी चार्ज करवाया है। उन्होने कहा कि बिहार की महागठबंधन इसका विरोध करती है। साथ ही उन्होंने कहा कि सूबे के नीतीश कुमार की सरकार को आगामी विधानसभा चुनाव में जनता उखाड़ फेकेंगी। वहीं हम के जिलाध्यक्ष जयशेखर मांझी ने कहा कि इस घटना की जितनी भी निंदा की जाए कम है। नीतीश कुमार तानाशाही पर उतर गयी है। जो भी राज्य सरकार के खिलाफ आवाज उठाते है उसके आवाज को दबाने का काम किया जा रहा है। लेकिन वे भूल रहे है लोकतंत्र है जनता कभी माफ नही करेगी। इसका हिसाब जरूर लेगी और नीतीश कुमार को सत्ता से उखाड़ फेकेंगी। मौके पर राजद के त्रिवेणी यादव, शंभू मंडल, राजेन्द्र महतो, सलामुल, ब्रहमदेव दास, कुलदीप यादव, वकील यादव, मल्हु सिंह, प्रयाग यादव, जवाहर महतो, तुलसी देवी, किरण देवी, सरिता देवी महेन्द्र यादव व नितेश्वर आजाद ने भी बिहार सरकार व केन्द्र सरकार को कोसा। इसके बाद महागठबंधन के प्रतिनिधि मंडल द्वारा जिलाधिकारी धर्मेन्द्र कुमार को एक ज्ञापन भी सौंपा।

Comments are closed.