व्याप्त भ्रष्टाचार एवं अफसरशाही प्रदेश के लिए अभिशाप : एन.ए. खोंन

रिपोर्ट;गणेश कुमार,सुपौल।
सुपौल :- आगमी बिहार विधानसभा चुनाव-2020 की तैयारियों को ले सभी राजनैतिक दलों की सरगर्मी तेज हो चुकी है।एक तरफ जहां राष्ट्रीय जनता दल से मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव राजद के कार्यकाल पर पर्दा डालकर वर्तमान सरकार की कमियों को राजनीतिक मुद्दा बनाकर जनता को आकर्षित करने में जद्दोजहद करता नजर आ रहा है वहीं जद (यू) सुप्रीमो व वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने कार्यकाल में भ्रष्टाचार,सरकारी धन के बंदरबांट एवं बढ़े हुए अपराध के ग्राफ को गौण करते हुए विकास कार्यों का हवाला देते हुए चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी में है।

लोजपा सहित कई राजनैतिक दल भी चुनावी रणनीतियों के साथ चुनाव मैदान में उतर चुकी है।पूर्व केंद्रीय रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस द्वारा संस्थापित समता पार्टी “जनता सर्वोपरि है” के राष्ट्रवादी सिद्धांतों का अनुकरण करते हुए बहुगुणी जोश के साथ चुनावी तैयारियों में जुट चुकी है। बिहार विधानसभा चुनाव-2020 की तैयारियों को ले समता पार्टी राष्ट्रीय कमिटी शत प्रतिशत सहभागिता दे रही है।इसी क्रम में समता पार्टी राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एन.ए.खोंन व अनुशासन समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सम्राट दत्ता बिहार दौरे पर हैं।

राजधानी पटना स्थित समता पार्टी प्रदेश कार्यालय में प्रदेश की मौजूदा हालात,विभिन्न राजनैतिक दलों की चुनावी रणनीतियों सहित समता पार्टी के बेहतर चुनावी परिणाम बिंदुओं पर गहन मंथन हेतु राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एन.ए.खोंन की अध्यक्षता में शनिवार को बैठक का आयोजन किया गया।ततपश्चात समता पार्टी टीम बिहार के विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों का दौरा भी करेगी।

समता पार्टी राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एन.ए.खोंन ने प्रदेश के मौजूदा परिवेश पर गहरी चिंता व्यक्त किया है।खोंन ने कहा कि प्रदेश में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं अफसरशाही प्रदेश व प्रदेश की जनता के लिए अभिशाप है।अनुशासन समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सम्राट दत्ता ने कहा कि प्रदेश में चरम पर पहुंच चुकी भ्रष्टाचार और अफसरशाही भविष्य में वर्तमान सरकार सहित काले अक्षरों में लिखा जाएगा।समता पार्टी प्रदेश उपाध्यक्ष रंजन कुमार ने बिहार में तीव्र रफ्तार से बढ़ रहे अपराध के ग्राफ एवं पुलिस-अपराधी महागठबंधन जैसे शर्मनाक क्रियाकलापों पर नीतीश सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि प्रदेश में जनता की दुर्गति के लिए नीतीश सरकार जिम्मेवार है।

प्रियरंजन ठाकुर ने कहा कि आज सरकार की दोहरी नीति के कारण सवर्ण हर दृष्टिकोण से उपेक्षित किया जा रहा है तो वहीं समता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष उदय मंडल ने दशकों से रोजगार,पलायन आदि पर विफल हर सरकार के क्रियाकलापों पर बड़ा सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि समता पार्टी के लिए जनता सर्वोपरि है।वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक में शामिल समता पार्टी प्रदेश मीडिया प्रभारी गणेश कुमार ने कहा कि भ्रष्ट नेताओं,मंत्रियों एवं कर्तव्यविमूढ अधिकारियों के कारण प्रदेश में भारतीय संविधान सिर्फ एक मजाक बनकर रह गया है।गणेश कुमार ने कहा कि बिहार के मौजूदा हालात पर केंद्र सरकार भी अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ चुकी है जो चिंतनीय है,केंद्र सरकार को चाहिए कि वो प्रदेश में संवैधानिक व्यवस्था कायम रखने व करने में भूमिका निभाएं।

बिहार विधानसभा चुनाव-2020 चौंकाने वाला परिणाम दे सकता है क्योंकि जनता जागृत हो चुकी है,उन्हें अंधेरे में रखना वर्तमान परिवेश में असंभव है।जनता देश एवं प्रदेश के हित में अपने मताधिकार का उपयोग अवश्य करेगी।

बैठक में नागेंद्र कुमार राजा,सुजीत कुमार व प्रदेश कमिटी के सदस्यों के अलावा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश सचिव बिनोद मंडल,मुंबई महानगर अध्यक्ष निर्मल झा,सलाहकार मुनन झा,चंदन कुमार ठाकुर,प्रदेश प्रवक्ता रमण मंडल,प्रदेश उपाध्यक्ष रौशन मंडल आदि उपस्थित रहे।

Comments are closed.