शॉट-सर्किट से सदर अस्पताल में घंटो छाया रहा अंधेरा, परेशान रहे मरीज

अंजुम आलम की रिपोर्ट
जमुई: अचानक रविवार की शाम शॉट-सर्किट से सदर अस्पताल के आधे भाग में बिजली गुल हो गई। लेकिन अस्पताल कर्मी और बिजली मिस्त्री द्वारा ठीक करने का पूरा प्रयास किया गया लेकिन कुछ पता नहीं चल सका। जिस वजह से रातभर तो बिजली गुल रही ही लेकिन सोमवार की सुबह बिजली बनाने आये मिस्त्री को पूरे अस्पताल के बिजली का स्वीच ऑफ करना पड़ा। जिससे पूरा अस्पताल में घंटों अंधेरा कायम रहा। विधुत सम्बंधित सभी कार्य ठप रहे। कोई मरीज पंजीयन के लिए तो कोई मरीज एक्सरे के लिए परेशान होते रहे। वहीं सिविल सर्जन डॉ. श्याम मोहन दास को जब बिजली गुल होने की जानकारी मिली तो उन्होंने फौरन मरीजों के पंजीयन के लिए कंट्रोल रूम में व्यवस्था की उसके बाद सभी मरीजों को ऑफ लाइन ही दवाइयां देने का इंतेज़ाम किया। लेकिन एक्सरे के आस में दर्जनों दर्जनों लगभग 03 घंटे तक इंतेज़ार करते रहे। इधर सदर अस्पताल में विधुत व्यवस्था बिगड़ने को लेकर अस्पताल कर्मी व मिस्त्री भी बिजली ठीक करने को लेकर घंटों परेशान रहे। बड़ी मुशक्कत के बाद अधीक्षक डॉ. सुरेंद्र कुमार सिंह की निगरानी में लगभग तीन घंटों के बाद गड़बड़ाई विधुत को सुधार किया गया। तब लगभग 1 बजकर 10 मिनट में पूरे अस्पताल में सुचारू ढंग से बिजली को शुरू किया गया। वहीं इस सम्बंध में पूछने पर अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुरेंद्र प्रसाद ने बताया कि बिजली नहीं होने की वजह से थोड़ी परेशानी हुई है। शॉट सर्किट की वजह से बिजली चली गई थी इसे शुरू कर दिया गया है। हालांकि पूरे सदर अस्पताल में एक भी अग्नि नियंत्रण मशीन नहीं होने को लेकर अधीक्षक ने बताया कि इसके लिए कई बार चिट्ठी देकर मांग की गई है बहुत जल्द ही अग्नि नियंत्रण मशीन लगाया जाएगा।

Comments are closed.