संक्रमण काल से गुजर रहा है पर्यटन उद्योग

रिपोर्ट: ब्यूरो, राम विलास, नालंदा, बिहार।
राजगीर;-अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन केन्द्र राजगीर में अलग- अलग विश्व पर्यटन दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ रिटायर शिक्षक डॉ जयनंदन पाण्डेय के मंगलाचरण से किया गया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि केवल राजगीर ही नहीं, बल्कि देश- दुनिया का पर्यटन वैश्विक महामारी कोविड- 19 के कारण संक्रमण काल से गुजर रहा है। पर्यटन स्थलों पर सन्नाटा पसरा है।

पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोग भूखमरी के कगार पर हैं। उनके लिए घर परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। विश्व पर्यटन दिवस इस वर्ष काला दिवस बन गया है। एलआईसी के विकास पदाधिकारी सुधीर कुमार उपाध्याय ने कहा कि राजगीर सांस्कृतिक विरासत की आदि भूमि है। यहां की प्राकृतिक सौंदर्य अद्भुत है। नगर पंचायत की मुख्य पार्षद मुन्नी देवी ने कहा कि राजगीर पर्यटन स्थल के साथ तीर्थ स्थल भी है। यहां सभी धर्मों के लोग दुनिया भर से तीर्थाटन के लिए आते हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा राजगीर में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए अनेकों कार्य किये गये हैं और किये जा रहे हैं।

पूर्व वार्ड पार्षद उमराव प्रसाद निर्मल ने कहा कि राजगीर के अधिकांश लोगों की जीविका पर्यटन उद्योग पर आधारित है। राजद के जिला अध्यक्ष अशोक कुमार हिमांशु ने कहा कि ऐसा बुरा समय कभी नहीं आया था। उन्होंने कहा कि नालंदा जिला का पर्यटन उद्योग उपेक्षा का शिकार है। अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन केन्द्र राजगीर में तो पर्यटन के क्षेत्र में कुछ काम किया गया है, लेकिन विश्व विख्यात नालंदा आजादी के 72 साल बाद भी विकास से काफी दूर से। डबल इंजन की सरकार होते हुए भी नालंदा में पर्यटकों को विश्राम करने के लिए एक होटल तक नहीं बन सका है।

इस अवसर पर पर्यटन पदाधिकारी सुधीर कुमार, शशि कुमार, मुखिया मंजू देवी, सुधीर मालाकार, सुधीर कुमार उपाध्याय, राजाराम सिंह, रमेश कुमार पान, सुरेन्द्र यादव एवं अन्य ने विचार व्यक्त किया।रोटरी क्लब द्वारा आयोजित विश्व पर्यटन दिवस कार्यक्रम में नगर पंचायत की मुख्य पार्षद मुन्नी देवी, पूर्व उप मुख्य पार्षद श्यामदेव राजवंशी, राजगीर होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय कुमार सिंह, पूर्व उप मुख्य पार्षद सह वरीय वार्ड पार्षद डॉ अनिल कुमार के अलावे रोटरी क्लब के पदाधिकारी शामिल हुए ।

Comments are closed.