संसद में आकर पता चला, ‘गले मिलने’ और ‘गले पड़ने’ का फर्क : नरेंद्र मोदी


ऋषी तिवारी
नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले आखिरी बार पीएम मोदी ने संसद को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाया और साथ ही उन लम्हों को भी याद किया, जिसकी वजह से संसद का सदन मीडिया की सुर्खियों में रहा। पीएम मोदी ने दोनों सदनों के सांसदों का कार्यवाही के लिए धन्यवाद दिया और हल्के अंदाज में राहुल गांधी पर तंज भी कसा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को 16वीं लोकसभा के समापन सत्र को संबोधित किया। इस दौरान मोदी ने कहा कि इस सदन में मुझे गले लगने और गले पड़ने का अंतर पता चला। मोदी संसद में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान हुई घटना का जिक्र कर रहे थे, जिसमें राहुल ने अपने भाषण के बाद अचानक मोदी को गले लगा लिया था। उन्होंने लोकसभा को संबोधित करते हुए आज जमकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज कसे। पीएम मोदी ने कहा कि संसद में पहली बार आंखों की गुस्ताखियां देखी गईं और पहली बार ही सदन में गले मिलने और गले पड़ने का अंतर पता चला। साथ ही उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि सुना था संसद में भूकंप में आएगा। यहां बता दें कि राहुल गांधी जुलाई, 2018 में अविश्वास प्रस्ताव पर भाषण देने के बाद अचानक मोदी की कुर्सी के पास पहुंच गए थे और उन्हें गले लगा लिया था। इतना ही नहीं अपनी सीट पर वापिस लौट कर राहुल किसी को आंख मारते भी देखे गए। पीएम मोदी ने कहा कि 2014 में पहली बार बिना कांग्रेस गोत्र की बहुमत की सरकार बनी। देश आज आत्मविश्ववास से भरा हुआ है और पहले से काफी हाई है। उन्होंने कहा कि डिजिटल वर्ल्ड में भारत ने अपनी जगह बनाई।

Comments are closed.