सड़क दुर्घटना में घायल युवक की मौत के बाद आक्रोशित लोगों ने किया सड़क जाम

रिपोर्ट, मो. अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:- सड़क दुर्घटना में घायल हुए युवक के इलाज के दौरान पटना में मौत होने के बाद आक्रोशित ग्रामीणों व स्वजनों ने जमुई- लखीसराय मुख्य मार्ग पर ठंड गांव के समीप सोमवार को सड़क जाम कर दिया। जिससे आवागमन पूरी तरह बाधित रही। सड़क के दोनों किनारे वाहनों की लंबी कतार लगी रही। इस दौरान आक्रोशित परिजन घटनास्थल पर पदाधिकारियों के आने की मांग कर रहे थे और मुआवजा की मांग करते हुए दोषी ट्रैक्टर चालक पर कार्रवाई करने की मांग पर अड़े थे।

इधर जाम की सूचना के तकरीबन 2 घंटे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस द्वारा आक्रोशित स्वजनों को समझाते-बुझाते हुए मुआवजा मिलने के आश्वासन के बाद किसी तरह जाम को हटाया जा सका और शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। मृतक युवक की पहचान सदर थाना क्षेत्र के संकुरहा बरहेन गांव निवासी नरेश राम के 32 वर्षीय पुत्र संजीत के रूप में हुई है। मृतक तीन भाइयों में बड़ा भाई था। मृतक की दो शादी हुई थी। पहली पत्नी से एक एक पुत्री है। उनका देहांत हो जाने के बाद वह दूसरी शादी लवली कुमारी से किया था जिससे एक पुत्र है। मृतक मज़दूरी कर अपने परिवार का भरण-पोषण करता था।
—-
-ट्रैक्टर की ठोकर से युवक की गई जान

स्वजन ने बताया कि युवक 7 नवंबर शनिवार को खेत में काम करने गया था। जहां से पाइप और अन्य सामान लेकर साइकिल से घर लौट रहा था। इसी दौरान हरला पुल के समीप तेज रफ्तार ट्रैक्टर आई और अनियंत्रित होकर पीछे से जबरदस्त ठोकर मार दी थी। जिससे युवक गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसके बाद ग्रामीणों द्वारा ट्रैक्टर को पकड़ लिया गया। ट्रैक्टर भगवाना गांव निवासी रमेश महतो का बताया जा रहा है। स्वजनों ने बताया कि ट्रैक्टर मालिक द्वारा पटना में भर्ती करा कर छोड़ दिया गया। पटना के हॉस्पिटल द्वारा डेढ़ लाख का बिल दिया गया था। गरीबी की वजह से वे लोग पैसा देने में असमर्थ थे। लेकिन किसी तरह कर्ज लेकर पैसा दिया गया और शव को जमुई लाया गया है।

Comments are closed.