तंबाकू में मौजूद 4 हज़ार ज़हरीले तत्व कई बीमारियों को देता है जन्म:-सीएस


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-सदर शनिवार को अस्पताल के संवाद कक्ष में तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को लेकर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।कार्यक्रम की अध्यक्षता सीविल सर्जन डा. श्याम मोहन दास ने की। इस अवसर पर सीएस ने उपस्थित लोगों को बताया कि तम्बाकू में मौजूद चार हजार जहरीले तत्व होते हैं।जिससे बालों का झड़ना,मोतियाबिन्द होना,दांत में सड़न होना, फेफड़ों का कैंसर होना,दिल की बीमारी होना,पेट का अल्सर होना,बदरंग उंगलियां होना, विकृत शुक्राणु होना और गैंग्रीन होने आदि प्रमुख बीमारी होता है।उन्होंने कहा कि इन सभी बीमारियों को रोकने के लिए ही प्रशिक्षण दिया जा रहा है ताकि आप लोग जिले के सभी स्कूलों में जाकर तंबाकू के सेवन से होने वाली बीमारियों एवं दुष्प्रभाव के बारे में बच्चों को जागरूक करें ताकि आने वाला समाज इन बीमारियों के चपेट में ना आ सकें। साथ ही उन्होंने तंबाकू नियंत्रण कानून से भी अवगत कराते हुए कहा कि नाबालिगों के द्वारा तंबाकू उत्पाद बेचने पर प्रतिबंध है। किसी शैक्षिण संस्था के 100 गज के दायरे में किसी भी तरह के तंबाकू उत्पाद बेचने पर प्रतिबंध है। सार्वजनिक स्थानों में धूम्रपान करने पर भी प्रतिबंध है। सभी प्रकार के तंबाकू उत्पादों के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष विज्ञापनों पर भी प्रतिबंध लगा हुआ है।

उन्होंने बताया कि इसका उलंघन करने वालों पर कानूनी कार्रवाई के तहत एक साल से 5 साल की सज़ा और 5 हज़ार से 50 हज़ार तक के जुर्माना का प्रावधान है।धूम्रपान करने वालों में टीबी होने का खतरा तीन गुना अधिक होता है,साथ ही मृत्यु दर तीन से चार गुना अधिक होती है। उन्होंने कहा कि धूम्रपान करने वाले जितनी अधिक बीड़ी-सिगरेट पीते है उन्हें टीबी होने की संभावना उतनी ही अधिक होती है।

तम्बाकू छोड़ने के सुझाव
सीएस ने बताया कि तंबाकू का सेवन करने वालों को यह सुझाव अवश्य दें ताकि वह तंबाकू छोड़ सकें।उन्होंने कहा कि तम्बाकू युक्त सारी वस्तुएं अपने पास से हटा दें। सप्ताह में तम्बाकू रहित एक दिन की शुरूआत करें और धीरे-धीरे छोड़ते रहें। अपने रोजाना के कार्यक्रम में तब्दीली लाएं और सुबह सैर के लिए जाएं। ऐसे लोगों से दोस्ती रखें जो आपकी आदत छुड़ाने में मदद करें। अपने पास सौंफ, मिश्री, लौंग या इलायची रखें।तम्बाकू के उपयोग में देर करें, लंबी सांसे लें, धीरें-धीरे पानी पिएं, अपना ध्यान किसी दूसरी ओर लगाएं। उन जगहों और लोगों से दूर रहें जो तम्बाकू की तलब की याद दिलाएं। इस अवसर पर एसीएमओ डा. विजयेंद्र सत्यर्थी, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. विमल कुमार चौधरी, एनसीडी ऑफिसर डा. नगीना पासवान, बीबीडीसी पदाधिकारी डा. अंजनी कुमार सिन्हा, डीपीएम सुधांशु नारायण लाल, जिला अनुश्रवण सह मूल्यांकन पदाधिकारी मुकेश कुमार, एसएमसी मो. मेराज जिया, शमीम अख्तर, केयर इंडिया के संजय कुमार, डा. कृष्णमूर्ति सहित चलंत चिकित्सा दल,शिक्षा पदाधिकारी मौजूद थे।

Comments are closed.