यूपी में अखिलेश यादव को मिला गुजरात के हार्दिक पटेल का साथ

google image

लखनऊ: पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने गुरुवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की। हार्दिक पटेल ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन बहुत मजबूत है और उत्तर प्रदेश में बीजेपी को हरा सकता है। दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से संवाददाताओं को संबोधित किया।

हार्दिक ने कहा कि पुलवामा में जो जवान शहीद हुए, उनमें 13 उप्र से थे। उन्होंने अर्धसैनिक बल कर्मी को पूर्ण सैनिक का दर्जा देने की मांग की।

हार्दिक ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के रास्ते को 50 बार चेक किया जाता है, जवानों के रास्ते को अलर्ट के बाद भी क्यों नही चेक किया गया।’

उन्होंने कहा कि ‘गुजरात मॉडल ऐसा नहीं था जैसा प्रधानमंत्री ने दिखाया। आज भी गुजरात का किसान आत्महत्या कर रहा है। जो प्रधानमंत्री के खिलाफ बात करता है, वो विपक्ष या देशद्रोही हो जाता है।’

हार्दिक ने कहा कि ‘हम उन सभी लोगों के साथ हैं जो संविधान को बचाने की लड़ाई में शामिल हैं। देश मोदी सरकार से नहीं, संविधान से चलता है।’

उन्होंने कहा, “आज देश का युवा-किसान मुश्किलों से गुजर रहा है। प्रतापगढ़-मिजार्पुर गया था, योगी आदित्यनाथ को कोई योगी कहने को तैयार नही है। सब लोग अजय बिष्ट ही बोल रहे हैं। यहां कानून व्यवस्था खत्म हो चुकी है।”

हार्दिक पटेल ने कहा कि यूपी की राजनीति को समझ लेंगे तो देश की राजनीति समझ जाएंगे अभी तो बहुत कुछ सीखना है हमें। मोदी जी इससे पहले यूपी बिहार को कोसने का ही काम करते थे। आज तक उन्होंने कोई काम नहीं किया है। न दाऊद इब्राहिम देश लाया गया न 15 लाख रुपए मिले ना ही स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू हुई।

उन्होंने कहा कि ‘राष्ट्रभक्ति और देशद्रोह क्या है, ये समझाने की जरूरत नहीं है। संविधान पर काम करने वाला सच्चा देशभक्त है। अखिलेश जी पर भरोसा है ये समस्याओं का समाधान करके लोगों का काम करेंगे।’

वहीं, अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर हमला करते हुए कहा कि पुलवामा हमले के बाद जहां पूरा देश दुख में था, वहीं भाजपा के नेता उद्घाटन व शिलान्यास कर रहे थे।

उन्होंने कहा, “मैं टीवी बहुत कम देख रहा हूं। अगर देखने लगा तो सोचना ही बन्द हो जाएगा। चुनाव समय पर होंगे, जनता इंतजार कर रही है तारीख का। संविधान और देश का कानून सभी को बराबर से देखता है। भाजपा हर जगह राजनीति करती है।”

अखिलेश ने कहा कि चुनाव की तारीख आ जाए फिर पता चलेगा कौन कहां से चुनाव लड़ेगा।

Comments are closed.