मुजफ्फरपुर में बागमती का तटबंध सौ फीट तक टूटा


राम नरेश ठाकुर, ब्यूरो
पटना। उत्तर बिहार में बुधवार को सभी नदियाें के जलस्तर में कमी आई पर मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, दरभंगा व मधुबनी में बाढ़ से स्थिति गंभीर बनी हुई है। बुधवार को मुजफ्फरपुर के बकुची में बागमती का पुराना तटबंध 100 फीट टूटने से बकुची कॉलेज के पास तेज कटाव हो गया है। नेपाल में लगातार बारिश और उत्तर बिहार की नदियों में अत्यधिक जलस्राव से दरभंगा शहर पर दबाव बढ़ गया है। दरभंगा में बागमती सहित अधवारा समूह की नदियों में पानी बढ़ने से धौंस नदी का पश्चिमी तटबंध कमतौल में दो जगह टूट गया।

उत्तर बिहार के 12 जिलों की 46.83 लाख आबादी बाढ़ की चपेट में है और बाढ़ से अबतक कुल 67 लोगों की मौत भी हो चुकी है। सीतामढ़ी में 17, अररिया में 12, मधुबनी में 11, शिवहर में 9, पूर्णिया में 7, दरभंगा में 5, किशनगंज में 4 और सुपौल में 2 लोग जान गंवा चुके हैं। सबसे गंभीर स्थिति सीतामढ़ी की है, जहां की 176 पंचायतों की 17 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित है। अररिया के नौ प्रखंडों की 124 पंचायतें जलमग्न हैं। यहां 9.24 लोग बाढ़ की चपेट में हैं। बाढ़ से जिला निबंधन व परामर्श केंद्रों पर भी खतरा मंडराने लगा है। योजना और विकास विभाग ने बाढ़ग्रस्त जिलों के सभी डीएम को निबंधन वपरामर्श केंद्रों की सुरक्षा के इंतजाम करने को कहा है।

नेपाल से निकलने वाली रातो, मरहा, बुरबे आदि नदियों का पानी सीतामढ़ी से बढ़कर मधुबनी के धौंस नदी में मिलने से नदी के जलस्तर में अचानक वृद्धि हो गई है। इससे बेनीपट्टी व बिस्फी प्रखंड स्थित अग्रोपट्टी बसैठा जमींदारी, रानीपुर मतरहरि जमींदारी बांध, करहरा से सोहरैल जमींदारी बांध और नजरा से मेधवन जमींदारी बांध को ओवरटॉपिंग करते हुए पानी दरभंगा के बागमती में प्रवाहित होने लगा है।

Comments are closed.