बेखौफ दबंगो ने बिरसिंहपुर पंचायत के टाँड़ी टोल में जमकर किया बवाल, इलाके में दहशत।

रमेश शंकर झा, समस्तीपुर बिहार
समस्तीपुर/कल्याणपुर:- जिले में बीती रात कल्याणपुर थाना क्षेत्र के बिरसिंहपुर पंचायत के अकबरपुर ग्राम टाँड़ी टोल में बाहर से आए कुछ गुंडों ने पूरा तांडव किया। वह सभी लोग हथियारों से लैस थे यह सभी लोग दिनेश राय उम्र 40 वर्ष पिता स्वर्गीय राम कुबेर राय को जान से मारने की नियत से ढूंढ रहे थे। दिनेश राय के घर पर नहीं होने से उसकी मां राजू देवी उम्र 60 वर्ष को अपने पुत्र की जानकारी नहीं देने पर बुरी तरह मारा पीटा। इस मारपीट को होते देख जब छोटा भाई शंभू राय (27) आया तो उसे भी पटक कर बहुत मार मारा फिर उसके पत्नी महावती देवी उम्र 30 वर्ष जो कि घर में रोटी बना रही थी, बाल पकड़कर खींचते हुए रोड पर लाया और लात घूंसे से उसे तथा उसके गुप्त जगहों पर भी बहुत मारा। वहीँ जैसे तैसे दिनेश राय भागकर उपमुखिया के यहां गया जहां से उपमुखिया ने थाना को फोन कर उक्त बातों की जानकारी दीया।

वहीँ थाना के परशुराम झा के अध्यक्षता में वहां पहुंची तब पीड़ित परिवार की जान बची। बतादे की दिनेश राय का अपने ही भाई अरुण राय उम्र 45 वर्ष पिता स्वर्गीय राम कुबेर राय से एक हरे आम के पेड़ को काटने को लेकर बहस हुआ जिस कारण अरुण राय ने अपने ससुराल ग्राम बांदे रुदौली थाना मुफस्सिल जिला समस्तीपुर फोन किया फिर वहां से रामबाबू राय उम्र 26 वर्ष पिता स्वर्गीय ब्रह्मदेव राय, राहुल कुमार उम्र 25 वर्ष एवं अपने साढ़ू हरिशंकर राय उम्र 35 वर्ष पिता कपल राय ग्राम मनीपुर थाना वारिसनगर जिला समस्तीपुर अपने सात आठ साथियों के साथ दिनेश राय के यहां पहुंचा तथा जमकर तांडव किया। इन दबंगो ने मासूम बच्चों को भी नहीं छोड़ा और उनके छोटे लड़का विराट कुमार उम्र 7 वर्ष को छत पर से नीचे फेंक दिया। यह तो गनीमत थी कि बच्चा नीचे एक फूस की झोपड़ी पर जा कर गिरा जिससे उसकी जान बची, एक 5 वर्षीय बच्ची इमरती कुमारी को भी छत पर से नीचे फेंक दिया फिर इनके घर में ताला लगा दिया।

पीड़ित परिवार का आरोप है कि उन्हीं के ग्रामीण रामविलास राय उम्र 60 वर्ष पिता स्वर्गीय सरयुग राय एवं हरकिशुन राय उम्र 45 वर्ष पिता स्वर्गीय सरजुग राय उन्हें देखना नहीं चाहते हैं। उन्होंने पीड़ित दिनेश राय के साथ 28 तारीख को भी खूब मारपीट किया था जिसका आवेदन थाने में दिया गया था, थाने में आवेदन देने के बाद भी इस तरह की घटना बहुत से बातों को दर्शाता है। विदित हो कि सन 1996 में पीड़ित के पिता का भी कत्ल कर दिया गया था। कल के वारदात से पूरा परिवार भय में है। वहीं ग्रामीणों में आक्रोष भी देखने को मिला है। विदित हो की इस तरीके की घटना लगातार थाने के सर चढ़कर बोल रही है अब देखें थाना इस पर किस तरीके की कार्यवाही करती है।

Comments are closed.