संपत्ति विवाद मे वृद्ध चाचा के हत्या का लगाया आरोप, थानाध्यक्ष ने कहा बीमारी से हुई मौत

अंजुम आलम की रिपोर्ट
जमुई: वृहस्पतिवार की देर रात्रि सिकन्दरा थाना क्षेत्र के गौहरनगर गांव में लगभग 80 वर्षीय वृद्ध हेमराज यादव की मौत हो गई। मौत के बाद परिजन दुःखी थे ही कि शुक्रवार को वृद्ध के मौत में एक नया मोड़ आ गया। जब सुबह उसके भतीजे अशोक यादव ने मृत अवस्था में वृद्ध को देखा तो उन्होंने मौत के पीछे अपने चचेरे भाई राधे यादव उसके पुत्र मनु यादव और वृद्ध की पत्नी सुरो देवी पर हत्या का आरोप लगाया। एसपी जगुनाथरेड्डी को आवेदन देते हुए वृद्ध के मौत की जांच करने की गुहार लगाई।

हालांकि मृतक की पत्नी सुरो देवी ने बताया कि मृतक हेमराज यादव को लकवा मार दिया था उनकी तबियत कुछ दिनों से खराब चल रही थी इनकी हत्या नहीं आकस्मिक मौत हुई है। हत्या का जो आरोप अशोक यादव द्वारा लगाया जा रहा है वो झूठा है। अशोक यादव ने बताया कि मृतक हेमराज यादव दो शादी किये थे पहली पत्नी सुरो देवी ही थी जिससे औलाद नहीं होने की वजह से वे दूसरी शादी किये थे लेकिन दूसरी पत्नी से भी कोई औलाद नहीं हुआ था। दूसरी शादी के बाद पहली पत्नी सुरो देवी के बीच संबंध ठीक-ठाक नहीं चल रहा था। जब कुछ वर्षों के बाद दूसरी पत्नी की मृत्यु हो गई तब फिर पहली पत्नी साथ रहने लगी थी फिर भी दोनो के बीच झगड़े होते रहते थे। अशोक यादव ने बताया कि चाचा के हत्या में उसकी चाची सुरो देवी का भी हाथ है।

उन्होंने साफ तौर पर कहा कि उन्हें संपत्ति के लालच में हत्या कर दिया गया है। मृतक हेमराज यादव को पुत्र नहीं होने की वजह से उसका देख रेख कई वर्षों से उसका भतीजा अशोक यादव ही कर रहा था। पंचायत में वृद्ध ने अपने भतीजे राधे यादव को सम्पत्ति में हिस्सा देने से किया था इनकार। मृतक हेमराज यादव का भतीजा अशोक यादव ने बताया कि फरवरी महीने में राधे यादव अपने चाचा हेमराज यादव की सम्पत्ति में हिस्सा लेने के लिए गांव में पंचायत लगाया था।

हेमराज यादव का कोई संतान नहीं होने के वजह से पंचायत के दौरान राधे यादव उनके संपत्ति में हिस्सा मांगने लगा। लेकिन हेमराज अपने भतीजा राधे को संपत्ति में हिस्सा देने से पंचायत के दौरान ही इनकार कर दिया था। इसी वजह से राधे यादव ने चाचा हेमराज की हत्या की है। वहीं इस संबंध में मृतक का भतीजा अशोक यादव ने पुलिस पर दबंगई व बेगुनाह का मारपीट करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वो वृद्ध के मौत की खबर जब सिकन्दरा थाना जा कर दी तो थाना के एक एसआई द्वारा मारपीट व गाली-गलौज कर भगा दिया गया।

वहीं अशोक यादव ने बताया कि आरोपी से पुलिस की मिली भगत है। पुलिस हत्या को छुपाना चाह रही है। जबकि सिकन्दरा थानाध्यक्ष राजवर्धन कुमार ने बताया कि पुलिस कर्मी द्वारा किसी के साथ मारपीट नहीं कि गई है। वैसे वृद्ध की हत्या नहीं हुई है। वृद्ध हेमराज यादव बहुत दिनों से बीमार चल रहे थे जिस वजह से उनकी मृत्यु हुई है।

Comments are closed.