दबंगों ने स्कार्पिओ से इंटर के छात्र को अगवा कर पीटा


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-अपराधियों ने सदर थाना क्षेत्र के मंझवे गांव निवासी राजकिशोर चौरसिया के पुत्र मनीष कुमार को मंझवे चौक के समीप से उस वक़्त स्कार्पिओ पर जबरन बैठाकर अगवा कर लिया जब मनीष गांव से अपनी मौसी के घर लखीसराय के पंजाबी मोहल्ला जा रहा था।अगवा की सूचना परिजन को तब मिली जब किसी तरह मनीष स्कार्पिओ से कूद कर भाग निकला और अपनी मौसी के घर पहुंच कर बेहोश हो गया।उसके बाद युवक के पिता राजकिशोर द्वारा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ युवक की स्थिति खतरे से बाहर बताई जा रही है।

बताया जाता है कि सदर थाना क्षेत्र के मंझवे गांव निवासी राजकिशोर चौरसिया के 17 वर्षीय पुत्र मनीष कुमार लखीसराय स्थित पंजाबी मोहल्ले में अपनी मौसी के यहां रह कर इंटर की पढ़ाई करता था।शुक्रवार की दोपहर छात्र अपने घर मंझवे से 40 हज़ार रुपया लेकर वापस मौसी के यहां जाने के लिए मंझवे चौक पर आया लेकिन पहले से घात लगाए रंजीत चौरसिया व दो अज्ञात लोगों ने पकड़कर जबरन स्कार्पिओ में बैठा लिया और मुंह में कपड़ा डाल कर मारपीट करते हुए लखीसराय के अशोक धाम की ओर ले जाने लगा।तभी अशोक धाम रोड पर बन रहे ओवरब्रिज के समीप किसी तरह स्कार्पिओ का गेट खुल गया और छात्र स्कार्पिओ से कूद गया।जब तक लोग इकट्ठे हुए तबतक स्कार्पिओ फरार हो गया।

बताते चलें कि लखीसराय के नरसिंघोली गांव निवासी अवधेश चौरसिया के पुत्र रंजीत चौरसिया मंझवे गांव निवासी अपनी मौसी सरस्वती देवी व उसके सहयोगी गणेश चौरसिया के यहां करीब 15 दिनो से रह रहा था।छात्र ने बताया कि रंजीत से किसी प्रकार का विवाद भी नहीं था।कुछ दिन पहले आपसी विवाद को लेकर महिलाओं के बीच झगड़ा हुआ था।जिसके रंजिश की वजह से रंजीत जान मारने की नीयत से पीटते हुए लेकर जा रहा था।इधर परिजन द्वारा सदर थाना में रंजीत चौरसिया और दो अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

Comments are closed.