निशा हत्याकांड में डीएम से मिलने पहुंचे परिजन,आरोपियों की अविलंब गिरफ्तारी का किया मांग


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-शौचालय के अभाव में दरिंदगी का शिकार हुई झाझा थाना क्षेत्र की निशा जिसकी हत्याकांड को लेकर परिजन अब तक न्याय की आस में बैठे हैं। इसी कांड में संलिप्त आरोपितों के गिरफ्तारी की मांग को लेकर ग्रामीणों ने मंगलवार को जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। डीएम धर्मेन्द्र कुमार को सौंपे गए ज्ञापन के माध्यम से ग्रामीणों ने हत्याकांड में संलिप्त अपराधियों को जल्द से जल्द से गिरफ्तार करने की गुहार लगाई।बताते चलें कि आरोपियों द्वारा पीड़ित परिवार को केस उठाने की धमकी दी जा रही है तथा पुलिस कैम्प हटने के पश्चात घर में आग लगाकर झूठे मुकदमे में फंसा देने का भी भय दिखाया जा रहा है।

आरोपियों द्वारा लगातार केस उठाने की दी जा रही धमकी
वहीं झाझा थाना क्षेत्र के जामुखरैया निवासी शत्रुघ्न सिंह की पत्नी ममता देवी ने बताई कि 26/05/2019 को शौच के लिए गई उनकी बेटी निशा के साथ गांव के ही सद्दाम अंसारी एवं दो अन्य अज्ञात लोगों ने दुष्कर्म का प्रयास किया। उसमें विफल होने के बाद मेरी बेटी की हत्या कर दी गई। इस मामले में नामजद मुकदमा दर्ज कराया गया है। इस मुकदमे के बाद से ही सलीम मियां तथा इब्राहिम मियां द्वारा लगातार धमकी दी जा रही है। आवेदकों ने कहा है कि प्रशासन ने एक आरोपी को अपने गिरफ्त में लिया है बाकी दो आज भी आज़ाद घूम रहा है।
मौके पर समाहरणालय में कुसुम सिंह, अंजू देवी, ममता देवी, हीना देवी, आशा देवी, सद्दाम, ओमप्रकाश सिंह, प्रशांत सिंह, महादेव दास,  सुमन सिंह, सूरज बर्णवाल, दिलीप सिंह, बाल्मीकि मंडल अकाश सिंह, विशाल सिंह, संजीव सिंह, सहित दर्जनों ग्रामीणों मौजूद थे।

 क्या है निशा हत्याकांड
निशा हत्याकांड उस 15 वर्षीय नाबालिक लड़की निशा की है जो 26 मई को दरिंदगी का शिकार हो ईश्वर को प्यारी हो गयी। झाझा प्रखण्ड के जामुखरैया गांव की इस कुकृत्य घटना ने पूरे जमुई जिले को शर्मशार किया था। निशा की हत्या बहुत ही बेरहमी से गांव से कुछ दूरी पर स्थित जोना आहार के पास कर दी गयी थी। नाबालिग निशा की हत्या मुंह में गमछा बांधकर और पत्थर से कुचकर निर्ममता पूर्वक की गई थी।घर से शौच करने के लिये 26 मई की सुबह लगभग 8 बजे निकली और घंटो जब वापस  नही लौटी तो घर वालो ने खोजबीन शुरू किया। वहीं लगभग दो घंटे के बाद ग्रामीणो के द्वारा सूचना मिला कि इस्लामनगर और जामुखैरया गांव के बीच बने जोना आहार में एक लड़की का शव पड़ा हुआ है, जिसकी पहचान निशा के रूप में हुई थी।

बीत गए 10 दिन, नहीं मिला न्याय
हत्याकांड के तकरीबन 10 दिन बित जाने के बाद भी पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिलना पुलिस एवम प्रशासन के सुस्त रवैये की चीखचीख़ कर गवाही दे रहा है। ज्ञापन सौंपे जाने के बाद परिजनों की उम्मीद जमुई डीएम धर्मेन्द्र कुमार से लगी है कि वे अपराधी व इस हत्याकांड में संलिप्त आरोपियों को गिरफ्तार कर उचित कार्रवाई की मांग की ताकि समाज की बहू बेटियां इस दरिंदगी का शिकार न हो सके।

Comments are closed.