मिलकर आगे बढ़ना समय की मांग :-पीएम मोदी


ऋषी तिवारी
नई दिल्ली। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पीएम मोदी ने जवाब दिया है कि मिलकर आगे बढ़ना समय की मांग है. भारत की जन आकांक्षाओं को पूरा करना हम सबका कर्तव्य है। देशवासियों के सपने को साकार करना है। पहले से ज्यादा शक्ति से आए। हम आने वाली हर चुनौती और बाधा को पार कर सकेंगे। हमारे देश का मतदाता जागरूक है। चुनाव जीत-हार के आंकड़ों का खेल नहीं है।

मोदी ने कहा है कि राष्ट्रपतिजी ने अपने भाषण में यह बताया कि हम भारत को कहां और कैसे ले जाना चाहते हैं। भारत के सामान्य लोगों की आशा-आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए प्राथमिकता क्या हो, इसका एक खाका खींचने का प्रयास किया। राष्ट्रपतिजी का भाषण आम आदमी की आशाओं की प्रतिध्वनि है। यह भाषण देश के कोटि-कोटि लोगों का धन्यवाद भी है। सबको मिल-जुलकर आगे बढ़ना समय की मांग है और देश की अपेक्षा है। आज के वैश्विक वातावरण में यह अवसर भारत को खोना नहीं चाहिए।

आज के सामान्य वातावरण में भारत जैसे विशाल लोकतंत्र में सबके लिए गौरव करने की बात है कि हमारा मतदाता कितना जागरूक है। अपने से ज्यादा वो अपने देश से कैसे प्यार करता है, ये इस चुनाव में देखने को मिला है। इस बात के लिए देश का मतदाता अभिनंदन का पात्र है। मतदाता अपने से ज्यादा अपने देश के लिए फैसले करता है। यह बात इस चुनाव में नजर आई है। देश के मतदाता अभिनंदन के अधिकारी हैं। 2014 में हम पूरी तरह नए थे, देश के लिए अपरिचित थे, लेकिन उस हालात से बाहर निकलने के लिए देश ने एक प्रयोग के तौर पर हमें मौका दिया। 2019 का जनादेश पूरी तरह कसौटी पर कसने के बाद हर तराजू पर तौलने के बाद, पल पल को जनता ने जांचा और परखा है और उसके आधार पर समझा है और तब जाकर फिर से हमें चुना है।

Comments are closed.