कैमरे में चोर की हरकत कैद होने के बावजूद 12 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-शहर में अपराधी एक के बाद एक चोरी और छिनतई की घटना को अंजाम देकर बड़े आराम से फरार हो जाते हैं।अपराधी खुलेआम जमुई पुलिस को चुनौती दे रहे हैं।अपराध पर अंकुश लगाने को लेकर प्रशाशन द्वारा शहर के चौक-चौराहों पर सीसीटीवी कैमरा लगाने के बावजूद चोर,उचक्के
दिनदहाड़े लूट और छिनतई की वारदात को अंजाम दे रहे हैं।पुलिस की लापरवाही और शिथिलता की वजह से चोर, उचक्के पूरी तरह बेलगाम हो चुके हैं।नतीजतन किसी भी घटना को अंजाम देने से हिचकिचाते नहीं हैं।ऐसा ही एक मामला 22 जुलाई को सामने आया।जहां दिनदहाड़े शहर के महराजगंज चौक के बाटा शू दूकान के समीप लगी बाइक के डिक्की से उचक्के ने सीसीटीवी कैमरा के सामने 2.25 लाख रुपये उड़ा लिए।और आसानी से बाइक पर बैठकर चलते बने।पीड़ित सदर थाना क्षेत्र के खड़सारी गांव निवासी उस्मान मियां के पुत्र अलाउद्दीन अली ने बताया कि वे बैंक ऑफ इंडिया से 2.25 लाख रुपये निकाल कर बाइक की डिक्की में पैसा रखा था।

जिससे उचक्के द्वारा उड़ा लिए जाने के बाद टाउन थाना में आवेदन के साथ चोर की हरकत कैद होने का 30 सेकेंड का वीडियो क्लिप भी दिया गया लेकिन पुलिस इस ओर कोई कार्रवाई करना मुनासिब नहीं समझा।उसके बाद इसकी सूचना एसडीपीओ रामपुकार सिंह को दी गई तब पुलिस कुछ हरकत में आई और शहर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगालने के लिए एसपी आवास पर बनाये गए कंट्रोल रूम में गई लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी और तब से पीड़ित थाना का अबतक चक्कर काट रहा है और पुलिस कार्रवाई करने व छानबीन करने की बात कह रही है।मालूम हो कि उचक्के द्वारा 2.25 लाख रुपये उड़ाने के 12 दिन बीत गए लेकिन पुलिस इस मामले में किसी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच पाई है।जबकि सीसीटीवी फुटेज में चोर की हरकत कैद हुई है।जब कैमरा लगे होने के बावजूद पुलिस मामले की उद्भेदन करने में असफल हो रही है तो चौक-चौराहों पर सीसीटीवी कैमरा लगाने से क्या फायदा।बताया जाता है कि घटना के बाद पुलिस हरकत में आती है लेकिन कुछ दिनों के बाद फाइल ठंडे बस्ते में बंद कर गहरी नींद में सो जाती है।

Comments are closed.