वोट जाति के नाम पर नहीं, देश के लिए मांगता हूं :-मोदी


सोनू मिश्रा संवाददाता
पटना। मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी बिहार के दौरे पर आये है और उन्‍होंने पहले बक्‍सर, फिर सासाराम में चुनावी सभा को संबोधित किया है । उन्‍होंने सासाराम में रैली को संबोधित करते हुए कहा कि सासाराम और बिहार ने देश को हमेशा नेतृत्व दिया है, लेकिन दुर्भाग्य से कुछ लोग इसे काफी नुकसान पहुंचाया है और वही लोग मुझे दिन रात गालियां देते हैं। ये अहंकारी लोग हैं, किसी की परवाह नहीं करते हैं। उन्‍होंने कहा कि इतना ही नहीं, कांग्रेस ने तो जगजीवन राम को भी अपमानित किया था, लेकिन बिहार के लोगों ने ऐसे दलों का सूपड़ा साफ कर दिया।

मोदी ने कहा, ”मैं समाज की आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति को सशक्त करने में जुटा हूं। महामिलावट वाले मोदी की जाति पूछ रहे हैं। मैंने अनेक चुनाव लड़े और लड़ाए हैं, लेकिन कभी अपनी जाति का सहारा नहीं लिया। मेरे दिमाग में जाति नहीं है। घर, गैस का चूल्हा और शौचालय भी जाति पूछकर नहीं दिया। इसलिए वोट भी जाति के नाम पर नहीं, देश के लिए मांगता हूं।

पीएम मोदी ने कहा कि छह चरणों के मतदान के बाद विरोधी पस्त हैं और उनका गुस्सा सातवें आसमान पर है। इसीलिए उनमें गाली देने की होड़ मची है। ये लोग मजबूर, कमजोर और खिचड़ी सरकार बनाने के चक्कर में थे, जिससे उनका फायदा होता। जनता को लूटने का लाइसेंस चाहते थे। आपके इस चौकीदार ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया है। अब तो बस दस दिनों के बाद नतीजे भी आ जाएंगे।

पीएम ने कहा कि राजनीति में कब से इतनी तनख्‍वाह मिलने लगी कि अरबपति हो गए। आपका ये सेवक लंबे समय तक गुजरात का सीएम रहा और पांच से पीएम हूं। न मैंने अपने लिए कुछ किया और न अपने रिश्‍तेदारों के लिए किया। मेरे लिए तो जनता ही मेरा परिवार है। 120 कराेड़ हिन्‍दुस्‍तानी ही मेरा परिवार है। इन्‍हीं के लिए जिऊंगा। ईमानदारी ने मुझे वह ताकत दी कि गरीबों के लिए सबकुछ करूं।

लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद पीएम मोदी ने पहली बार दो अप्रैल को जमुई में लोजपा के उम्मीदवार चिराग पासवान और गया में जदयू उम्मीदवार विजय मांझी के लिए चुनावी सभा की थी और लोगों से वोट देने की अपील की थी। फिर11 अप्रैल को वे भागलपुर आए थे और 20 अप्रैल को अररिया में चुनावी सभा को संबोधित किया था।

Comments are closed.