अमन,शांति व जिले की तरक़्क़ी के लिए करें दुआ:-जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-शुक्रवार को शहर के इस्लाम नगर मोहल्ले में सुन्नी उलेमा बोर्ड के बैनर तले एक कार्यक्रम आयोजित की गई।जिसकी अध्यक्षता सुन्नी उलेमा बोर्ड के सचिव ज्याउर रसूल गफ्फरी ने की।वहीं कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे जिलाधिकारी ने एसडीपीओ रामपुकार सिंह और ज्याउर रसुल गफ्फरी के साथ संयुक्त रूप से हज यात्रियों को हरी झंडी दिखा कर हज भवन पटना के लिए रवाना किया।हज यात्रियों में मो.जाकीर खान,इसराइल मियां,शमसुद्दीन मियां,मलिक मुस्तफा,अजमुल खातून,खलील मियां,जहाँ आरा,अबुल हसन,मो.मनीर, मो.आफताब आलम सहित 21 लोग शामिल हैं।इससे पूर्व कार्यक्रम के दौरान जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने हज यात्रियों से मुखातिब होते हुए कहा कि पूरे राज्य से 19 हज़ार लोग इस बार हज यात्रा पर जा रहे हैं जिसमें 51 लोग जमुई जिला से हैं।वे भाग्यशाली लोग हैं जिन्हें हज पर जाने के लिए शौभाग्य प्राप्त हुआ है।हज हर एक व्यक्ति के जीवन में एक अलग महत्ता रखती है।सभी व्यक्ति की इच्छा होती है कि जीवन में एक बार उस पवन धरती पर हज के लिए जरूर जाएं।

उन्होंने कहा कि हज यात्रियों की संख्यां और जिले की अपेक्षा जमुई जिले में काफी कम है।जो और ज़्यादा होनी चाहिए।सिर्फ 51 ही नहीं बल्कि 250 से 300 की संख्यां में हज यात्री अपने जिला से होनी चाहिए।आगे जिलाधिकारी ने हज यात्रा पर जाने वाले लोगों से कहा कि मक्का और मदीना की पावन धरती पर जाएं तो अपने साथ-साथ जिले में सुखाड़ की गंभीर समस्या से निजात पाने के लिए जिले वासियों के लिए भी दुआएँ करें साथ ही जिले में अमन,चैन,आपसी भाईचारा और सौहार्द बने रहने के लिए भी अल्लाह से दुआएं मांगे।वहीं जिलाधिकारी ने हजयात्रियों को ढेर सारी शुभकामनाएं दीं।

कार्यक्रम के दौरान निसार जमई और मो.जमील रज़ा ने नाते मुस्तफा पेश की।वहीं अपने संबोधन में वाइस चेयर मैन पति सिबगतुल्लाह निजामी ने बताया कि हर साहेबे हैसियत यानी दौलतमंद लोगों पर जिंदगी में एक मरतबा हज फर्ज है।हज करने वाला गुनाह से ऐसे पाक-साफ हो जाता है जैसे आज पैदा हुआ बच्चा।आगे उन्होंने यह भी कहा कि अल्लाह ने जिसे दौलत दिया है वो अपने ज़रूरतमंद रिश्तेदार एवं पड़ोसी पर भी खर्च करें इस्लाम इसकी इजाजत देता है।सुन्नी उलेमा बोर्ड के सचिव मौलाना ज्याउर रसूल गफ्फरी ने हज यात्रियों से कहा कि मक्का और मदीना की पावन धरती पर एक,एक लम्हा बहुत कीमती है इसे ऐसे ही जाया जाने न दें।अपनी कीमती वक़्त जिले,राज्य व देश की शांति, तरक़्क़ी,खुशियाली और भाई चारा कायम रहने के लिए दुआ करें।मौके पर इंजीनियर मो.नौशाद आलम,मौलाना शमशीर,मौलाना हाजी अब्दुल कलाम,मुखिया बोड़न, मुखिया अब्दुल रसीद,हाजी नूर मास्टर,हाजी फारूक आजम,मो.ज़रीफ़ मियां सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

Comments are closed.