मॉनसून सत्र का आगाज,लॉ एंड ऑर्डर के कारण हंगामेदार रहने के आसार


राम नरेश ठाकुर, ब्यूरो
पटना। बिहार में विपक्ष इस पूरे सत्र में चमकी बुखार और लॉ एंड ऑर्डर पर सरकार को घेरने की तैयारी में है और साथ ही कहा जा रहा है कि इस सत्र में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव शामिल हो सकते हैं। बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र आज से शुरू हो रहा है जो 26 जुलाई तक चलेगा। कुल 21 बैठकोें के लिए निर्धारित यह सत्र हंगामेदार रहने की संभावना है।

आरजेडी प्रवक्ता भाई वीरेंद्र का कहना है कि राज्य में खराब विधि-व्यवस्था के साथ-साथ पयेजल मुख्य मुद्दा रहेगा। आरजेडी केंद्र सरकार के द्वारा 2014 में किए गए उस वादे पर भी सरकार को घेरेगी, जिसमें मुजफ्फरपुर में 100 बेड वाले आईसीयू के निर्माण की बात कही गई थी।

बिहार सरकार के मंत्री नीरज कुमार ने कहा है कि सदन कार्य संचालन नियमावली से चलता है. अपेक्षा है कि सदन में जनहित के सवाल को विपक्ष उठाये और यह विपक्ष का नैतिक अधिकार है. सरकार उसका जबाब देगी। यह निश्चित रूप से बिहार की जनता ने जो जनादेश दिया है सवाल जो भी आयेगा सरकार जवाब देगी।

बिहार सरकार के मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा कि किसी भी विषय पर प्रशन पूछा जाता है तो इसमें कोई बुराई नहीं है लेकिन हुल्लड़ करने का अधिकार लोकतंत्र उन्हें नही देती है. उन्होंने कहा कि बिहार के विपक्ष विशेषकर आरजेडी का स्वभाव दबंगई करने का है।

दरअसल, लोकसभा चुनाव में बड़ी जीत के बाद भी एनडीए सरकार चमकी बुखार और नीति आयोग की रिपोर्ट में स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में बिहार को फिसड्डी राज्यों में रहने के मामलों पर विपक्ष राज्य सरकार को घेरने की तैयारी में है। दूसरी ओर बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर भी विपक्ष आक्रामक है। विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव की महीने भर का अज्ञातवास विपक्ष की धार को कमजोर करने के लिए काफी है। सबसे बड़ा सवाल है कि क्या विपक्ष एकजुट होकर सरकार की नीतियों की आलोचना कर पाएगा? मानसून सत्र को लेकर विधानमंडल के पास धारा 144 लगा दी गई है और सुरक्षा के पुख्‍ता इंतजाम किए गए हैं। घुड़सवार दल समेत भारी संख्या में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।

Comments are closed.