शिक्षा विभाग ने 50 डिसमिल जमीन स्थानांतरण हेतु अनापत्ति प्रमाण पत्र निर्गत किया:- शाहीन।


ब्यूरो रमेश शंकर झा, समस्तीपुर बिहार
समस्तीपुर:-जिले के स्थानीय विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने बिहार विधानसभा में अपने तारांकित प्रश्न संख्या- शिक्षा- 210 के माध्यम से बिहार के माननीय शिक्षा मंत्री श्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा से पूछा कि समस्तीपुर जिला में अवस्थित मॉडल इंटर विद्यालय के प्रांगण में अल्पसंख्यक छात्रावास भवन का निर्माण कब तक होगा ? उन्होंने कहा कि बार-बार सदन में उक्त मामला उठाए जाने के बावजूद भी अब तक अल्पसंख्यक छात्रावास भवन का निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हो पाना बेहद आश्चर्यजनक और निराशाजनक है।

उन्होंने कहा कि 22 जुलाई 2006 को बिहार के माननीय मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक छात्रावास भवन का शिलान्यास समस्तीपुर में किए थे किंतु अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) प्राप्त नहीं होने के कारण निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हो सका था।अब 13 वर्षों के उपरांत शिक्षा विभाग ने जमीन स्थानांतरण हेतु अनापत्ति प्रमाण पत्र निर्गत कर दिया है। अतः निर्माण कार्य अविलम्ब प्रारम्भ कराई जाय।

वहीँ जवाब में शिक्षा मंत्री ने सदन को बतलाया की शिक्षा विभाग बिहार पटना में समस्तीपुर के जिला शिक्षा पदाधिकारी के पत्रांक- 301, दिनांक -01.08. 2018 एवं पत्रांक- 306, दिनांक- 02-08-2018 द्वारा प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर विभागीय पत्रांक- 558, दिनांक- 09-03-2019 द्वारा अनापत्ति प्रमाण पत्र निर्गत की गई है। मॉडल इंटर विद्यालय समस्तीपुर के 50 डिसमिल जमीन अन्तर्विभागीय निःशुल्क स्थानांतरण की कार्रवाई प्रारंभ की गई है। अनापत्ति प्रमाण पत्र भी निर्गत हो चुका है, जल्द ही मॉडल इंटर विद्यालय समस्तीपुर के प्रांगण में 50 डिसमिल जमीन पर अल्पसंख्यक छात्रावास भवन निर्माण कार्य प्रारंभ होने वाला है।

वहीँ मंत्री की जवाब सुनकर विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने उन्हें धन्यवाद दिया तथा आशा व्यक्त किया कि समस्तीपुर जिला की प्रतीक्षित मांग अब जल्द ही पूर्ण होगी।

समस्तीपुर के स्थानीय विधायक के लंबे संघर्ष के प्रतिफल के उपरांत समस्तीपुर जिला में अल्पसंख्यक छात्रावास भवन का निर्माण का मार्ग प्रशस्त होने पर समस्तीपुर के बुद्धिजीवियों, शिक्षाविदगण , छात्र संगठनों, सामाजिक तथा राजनीतिक कार्यकर्ता ने हर्ष व्यक्त करते हुए अपने विधायक के प्रति आभार व धन्यवाद प्रकट किया है।

Comments are closed.