भारतीय फुटबाल टीम कोच के चयन की दौड़ में फ्रांस के पूर्व कोच


भारतीय फुटबॉल टीम ने देश के लिए कुछ उम्मीदें जगाईं हैं और इसके साथ ही देश के लोगों में भी फुटबॉल के प्रति दिलचस्पी बढ़ गई है। भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री को लोगों से अपील करनी पड़ी कि वे मैच देखने आएं। घरेलू टूर्नामेंट से भी भारत में फुटबॉल के प्रति उम्मीद बढ़ी है, लेकिन अब भारतीय फुटबॉल टीम के कोच का पद भी काफी महत्वपूर्ण हो गया है।

पूर्व कोच स्टीफन कॉन्सटेंटाइन ने टीम को एक उल्लेखनीय क्षमता प्रदान की है जिससे उनके उत्तराधिकारी का चयन महत्वपूर्ण हो गया है। भारतीय फुटबाल टीम में रिक्त पड़े कोच के पद के लिए अब तक करीब 200 आवेदन आ चुके हैं। इनमें कई बड़े नाम हैं जिनमें शायद सबसे बड़ा नाम 2006 विश्व कप के फाइनल तक फ्रांस को ले जाने वाले कोच रेमंड डोमेनेक का है।

Comments are closed.