गागुंली बोले कि विराट को अपनी पसंद बताने का पूरा हक


टीम इंडिया के कोच पद के लिए आवेदन आ चुके हैं। आवेदन की आखिरी तारीख 30 जुलाई थी। कोच के चयन के लिए क्रिकेट सलाहकार समिति नियुक्त हो चुकी है। इस बात पर कोच के चयन पर कप्तान की राय कितनी अहम है इस पर भी बहस जारी है। गांगुली ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि वह कप्तान हैं, इसलिए उनके पास अपनी इच्छा जाहिर करने का अधिकार है। भारतीय टीम के वेस्टइंडीज दौरे पर रवाना होने से पहले कप्तान कोहली ने कहा था कि अगर मौजूदा कोच रवि शास्त्री को पद पर बनाए रखा जाता है तो पूरी टीम खुश होगी। शास्त्री का कार्यकाल इस विश्व कप तक ही था उन्हें केवल विंडीज दौरे के लिए एक्सटेंशन मिला है।

इस महीने में प्रशासकों की समिति (सीओए) द्वारा गठित की गई नई क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) टीम के मुख्य कोच का चुनाव करेगी। इस सीमित में भारत को पहला विश्व कप दिलाने वाले कप्तान कपिल देव, पूर्व कोच अंशुमन गायकवाड और भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान शांथा रंगास्वामी हैं। इन तीनों ने ही महिला टीम के कोच का चुनाव किया था। सौरव गांगुली वर्तमान सीएसी के पहले वाली सीएसी के सदस्य थे जिसमें सचिन तेंदलुकर, और वीवीएस. लक्ष्मण भी शामिल थे। उस सीएसी ने महिला टीम के कोच की नियुक्ति से इनकार कर दिया था और हितों से टकराव के मुद्दे को लेकर अपनी जिम्मेदारियों के बारे में सीओए से स्पष्टीकरण मांगा था। इसके बाद ही कपिल, अंशुमन और शांता की तिकड़ी ने ही कुछ दिन पहले डब्ल्यूवी रमन की नियुक्ति महिला टीम के कोच के तौर पर की थी।

Comments are closed.