भारत सरकार को बेटी बचाओ,बेटी पढाओं योजना कर देनी चाहिए बंद


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-शनिवार को जमुई परिसदन भवन में महिला अधिकार मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनामिका पासवान द्वारा की प्रेस-वार्ता आयोजित की गई।इस दौरान उन्होंने बताई की आजादी के 70 वर्ष बाद भी महिलाओं की स्थिती जस के तस बनी हुयी है। उनका विकास नहीं हो पाया है। कुछ महिलाओं के विकास से पुरे महिला समाज का विकास नहीं हो पायेगा।उन्होंने बताई कि हम पार्टी से इस्तीफा देकर महिला अधिकार मोर्चा का गठन किया हूँ।इस मोर्चा के तहत महिलाओं का आर्थिक,सामाजिक, शैक्षणिक व राजनीतिक विकास किया जाएगा। इसके लिए बिहार के हर गांव हर पंचायत जा-जा कर उनका विकास करने की हमलोगों ने ठानी है।

उन्होने केन्द्र की भाजपा सरकार को भी आड़े हाथ लेते हुए कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार को बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं योजना को बंद कर देना चाहिए। क्योंकि देश में कहीं भी बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। प्रतिदिन बेटियों के साथ अन्याय हो रहा है। जिसे रोक पाने में केन्द्र की मोदी सरकार व राज्य की नीतीश सरकार हर मोर्चा पर विफल साबित हो रही हैं।महिला सशक्तिकरण की बात करने वाली केन्द्र व राज्य की सरकार सिर्फ राजनीति कर रही है।

आगे उन्होंने उन्नाव मामले को लेकर कही कि दोषी विधायक को जेल नहीं सीधे फांसी पर चढ़ाया जाए।जिस तरह से एक दोषी विधायक को बचाया जा रहा है उससे ये जाहिर होता है कि साउथ कोरिया में जिस तरह किम का निरकुंश शासन चल रहा है उसी तरह भारत में भी नरेन्द्र मोदी व अमीत शाह द्वारा निरंकुश सरकार चलायी जा रही है।हम पार्टी छोड़ने के सवाल पर उन्होंने कही कि पार्टी की विचारधारा व कार्यप्रणाली महिला विरोधी थी।जिस कारण हमे पार्टी से इस्तिफा देकर महिला अधिकार मोर्चा का गठन करना पड़ा।वहीं युपी से आयी संगठन की सदस्य सुजाता सिन्हा ने बताया कि हम पार्टी का आस्तित्व खतरे में है।क्योंकि हम के सभी दिग्गज नेताओं ने उनका साथ छोड़ दिया है।

Comments are closed.