बदले गए छह राज्यों के राज्यपाल

ऋषी तिवारी
नई दिल्ली । कई राज्यों के राज्यपाल का तबादला किया गया है।भाजपा के वरिष्ठ नेता लालजी टंडन को मध्य प्रदेश का नया राज्यपाल बनाया गया है। वहीं मध्य प्रदेश की मौजूदा गवर्नर आनंदीबेन पटेल को उत्तरप्रदेश भेजा गया। टंडन इससे पहले बिहार के राज्यपाल थे। उनकी जगह फागु चौहान की नियुक्ति हुई है। पश्चिम बंगाल में केसरीनाथ त्रिपाठी को हटाकर जगदीप धनखड़ को राज्यपाल बनाया गया। रमेश बैंस को त्रिपुरा का गवर्नर बनाया गया।
गवर्नर                                           राज्य
लालजी टंडन                               मध्यप्रदेश
आनंदीबेन पटेल                           उत्तर प्रदेश
जगदीप धनखड़                           पश्चिम बंगाल
रमेश बैस                                      त्रिपुरा
आर.एन. रवि                                नागालैंड
फागु चौहान                                   बिहार
लालजी टंडन को भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं। लालजी टंडन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के काफी करीबी रहे हैं। वाजपेयी के राजनीति से संन्यास लेने के बाद उन्होंने वर्ष 2009 में लखनऊ से लोकसभा का चुनाव लड़कर जीत दर्ज की थी तब वह सांसद बने थे। 1960 से उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। टंडन दो बार विधान परिषद के सदस्य रहे।

वर्ष 1988 में आनंदी बेन भाजपा में शामिल हुई थी। शंकर सिंह वाघेला ने जब 1995 में पार्टी से बगावत की। तब उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के साथ काम किया था। 1998 में वह गुजरात कैबिनेट में शामिल हुई। तब उन्होंने शिक्षा, महिला एवं बाल कल्याण जैसे मंत्रालयों का जिम्मा संभाला। गुजरात विधानसभा चुनाव में न लड़ने के फैसले के बाद पिछले साल जनवरी में उन्हें मध्यप्रदेश का राज्यपाल बनाया गया। अब उन्हें उत्तर प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है।

जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले साल 2018 में सात राज्यों के राज्यपालों का तबादला किया गया था। तब जम्मू कश्मीर में पूर्व अफसरशाह एनएन वोहरा की जगह सतपाल मलिक को राज्यपाल बनाया गया था। बता दें कि सतपाल मलिक दस साल से जम्मू कश्मीर के राज्यपाल थे। तभी लाल जी टंडन को बिहार, गंगा प्रसाद को सिक्किम, सत्यदेव नारायण आर्य को हरियाणा, बेबी रानी मौर्य को उत्तराखंड और तथागत रॉय को मेघालय, कप्तान सिंह सोलंकी का तबादला कर त्रिपुरा का राज्यपाल बनाया गया था।

Comments are closed.